सपा-बसपा दोनों बीजेपी के साथी: निर्मल खत्री

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Captureलखनऊ। पिछले कुछ दिनों से बिहार की तर्ज पर उत्तर प्रदेश में महागठबंधन की चर्चा जोरों पर है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव भी महागठबंधन पर बसपा के साथ किसी भी गठजोड़ से इनकार कर चुके है। इस मुद्दे पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष निर्मल खत्री ने कहा कि मैं निजी तौर पर किसी भी ऐसे गठजोड़ में कांग्रेस के शामिल होने के खिलाफ हूं, जिसमें सपा या बसपा होंगे। दोनों पार्टियां बीजेपी की साथी हैं। वैसे तो कांग्रेस कार्यसमिति ही गठबंधन बनाने पर फैसला लेने को अधिकृत है, लेकिन मैं व्यक्तिगत तौर पर ऐसे गठजोड़ में जाने के खिलाफ हूं। उन्होंने कहा कि अकेले दम पर कांग्रेस कैसे विधानसभा चुनाव लड़ेगी और विधायकों की संख्या 28 से कैसे बढ़ाएगी, इस पर भी पार्टी में मंथन चल रहा है।
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष निर्मल खत्री ने कहा कि सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव खुलेआम अपने पार्टी के मंच पर ही मोदी की तारीफ कर चुके हैं। वहीं, मायावती की बसपा भी यूपी में बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बना चुकी है। उन्होंने ये आरोप भी लगाया कि बिहार में बीजेपी को फायदा पहुंचाने के लिए ही मुलायम और मायावती ने अपनी पार्टियों के प्रत्याशी मैदान में उतारे थे। मालूम हो कि निर्मल खत्री भले ही बसपा और सपा के साथ गठजोड़ को नकार रहे हो लेकिन इन दोनों पार्टियों ने यूपीए सरकार को बाहर से समर्थन दिया था। निर्मल खत्री अपनी पार्टी के विधायक अजय राय पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) लगाने से भी नाराज दिखे। उन्होंने कहा कि वाराणसी में संतों पर लाठीचार्ज हुआ और पीएम मोदी को खुश करने के लिए लाठीचार्ज के खिलाफ आवाज उठाने वाले अजय राय पर कार्रवाई कर दी गई। बता दें कि अजय राय के खिलाफ कार्रवाई से खफा कांग्रेस विधायकों ने सीएम अखिलेश यादव से मिलने का वक्त मांगा था। सीएम ने वक्त नहीं दिया। अब कांग्रेस अपने विधायक पर एनएसए लगाने को हाईकोर्ट में चुनौती देने की सोच रही है।

Pin It