संगम नगरी में पोस्टर से जोशी तो मंच से राजनाथ गायब

  • राजनाथ सिंह की उपेक्षा बनी कार्यकर्ताओं में चर्चा का विषय
  • इलाहाबाद से तीन बार सांसद रहे मुरली मनोहर जोशी पार्टी के पोस्टर से हुए गायब
  • सीएम के चेहरे पर फैसला नहीं ले पा रही भाजपा, चेहरा सामने आने से गुटबाजी बढऩे की उम्मीद
  • विकास के काम से ज्यादा हिन्दुत्व के एजेंडे पर काम करेगी पार्टी
  • लक्ष्मीकांत बाजपेयी के बाद जोशी को किनारे करने से ब्राह्मïण समुदाय खास नाराज

13 June PAGE- (1)1संजय शर्मा
लखनऊ। इलाहाबाद में जब भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में मंच पर लोकसभा चुनाव हार चुके अरुण जेटली बैठे नजर आए और सामने कुर्सी पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह बैठे नजर आए तो कार्यकर्ताओं के बीच चर्चा शुरू हो गई कि राजनाथ सिंह अभी भी हाशिये पर ही हैं। उधर इलाहाबाद में लगे पोस्टरों में मुरली मनोहर जोशी का फोटो गायब होने से एक बार फिर इलाहाबाद के लोगों में नाराजगी फैल गई और यह संदेश पूरे देश में चला गया कि भाजपा के शीर्ष नेतृत्व में अभी भी सब कुछ सामान्य नहीं चल रहा। पार्टी दो दिन की कड़ी मशक्कत के बाद भी सीएम के चेहरे पर कोई फैसला नहीं ले सकी अलबत्ता यह बात जरूर सामने आई की विकास के मुद्दे पर चुनाव लडऩे से पार्टी को कोई फायदा नहीं होने वाला है, इसलिए पार्टी फिर हिन्दुत्व की राह पर लौटेगी।
इलाहाबाद में भाजपा की राष्टï्रीय कार्यकारिणी का सम्मेलन यूं तो पार्टी को मजबूत बनाने और यूपी चुनाव की रणनीति पर काम करने के लिए बुलाया गया था, मगर यहां भी पार्टी की गुटबाजी सामने आती नजर आई। अरुण जेटली और राजनाथ सिंह के बीच सरकार बनने के समय से ही शीतयुद्ध चलता नजर आता रहा है। सरकार बनने और शपथ ग्रहण के दौरान भी यह बात चर्चा का विषय बनी थी कि पार्टी में नंबर दो की हैसियत किसकी होगी। इलाहाबाद में मंच पर भी राजनाथ सिंह को न बिठाने की चर्चा तेजी से होने लगी हालांकि पार्टी के प्रवक्ता इसके पीछे तर्क दे रहें हैं कि जेटली राज्यसभा में पार्टी के नेता हैं, इस नाते वह मंच पर बैठे हैं, मगर पार्टी के कार्यकर्ताओं का कहना था कि जब यूपी में चुनाव सिर पर हैं तो राजनाथ सिंह को हर हालत में मंच पर बिठाना चाहिए था।
उधर इलाहाबाद के लोग इस बात से भी हैरान हैं कि इलाहाबाद से तीन बार सांसद रहे मुरली मनोहर जोशी पार्टी के पोस्टरों से गायब हैं, यही नहीं उन्हें पार्टी की राष्टï्रीय कार्यकारिणी में भी आमंत्रित नहीं किया गया।

पीएम मोदी के संबोधन पर टिकी सबकी निगाहें

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज शाम एक बड़ी रैली को संबोधित करने जा रहे हैं। भाजपा ने इस रैली को सफल बनाने के लिए दिन रात एक कर दिया है। सबकी निगाहें इस बात पर लगी हैं कि आज शाम प्रधानमंत्री यूपी के लिए क्या संदेश देते हैं। लोगों का यह भी मानना है कि जिस तरह बिहार के चुनाव से पहले प्रधानमंत्री ने बिहार की जनता को लुभाने के लिए एक बड़ा पैकेज दिया था। उसी तरह यूपी में भी वह एक बड़ेे पैकेज का ऐलान कर सकते हैं। यूपी में भाजपा दलित वोटों को अपने तरफ आकर्षित करने की योजना बनाने में जुटी है। माना जा रहा है कि पीएम मोदी अपने भाषण में दलितों को लुभाने के लिए कोई बड़ी बात कहेंगे। भाजपा पीएम की इसी रैली के साथ यूपी चुनाव का बिगुल बजाना चाहती है, लिहाजा उसकी पार्टी के नेता इस रैली को सफल बनाने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं। देश भर के सभी प्रमुख भाजपा नेताओं के इलाहाबाद में जुटने से पार्टी के कार्यकर्ताओं में बेहद खुशी है।

Pin It