शिवालयों में गूंजा बम-बम भोले का उद्घोष

  • भोलेनाथ के दर्शन के लिए शिव मंदिरों में जुटी भक्तों की भीड़, कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच भक्तों ने किया जलाभिषेक

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Captureलखनऊ। सावन महीने में पहले सोमवार के दिन शिवालयों में भोलेनाथ का दर्शन करने वाले भक्तों की लंबी भीड़ देखने को मिली। बम-बम भोले के उद्घोष से सारा वातावरण भक्तिमय हो गया। मनकामेश्वर मंदिर, बुद्धेश्वर मंदिर और चन्द्रिकेश्वर मंदिर समेत सभी शिवालयों में भक्तों ने भगवान शंकर का जलाभिषेक किया। इस दौरान सभी प्रमुख मंदिरों में सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद रही।
आज पवित्र सावन महीने का पहला सोमवार है, भगवान भोलेनाथ के दर्शन करने के लिए श्रद्घालुओं की भारी भीड़ सुबह से ही मंदिरों में जुटने लगी।

शहर के अधिकांश मंदिरों में भक्तों की भीड़ को नियंत्रित करने के लिए बैरीकेडिंग की व्यवस्था की गई है। शिव मंदिरों को आकर्षक ढंग से सजाया गया है। श्रद्घालुओं ने मंदिरों के अलावा अपने घरों में भी विशेष पूजा-अर्चना की। भक्तों ने भोलेनाथ के शिवलिंग को दूध से नहलाया। इसके साथ ही बेल पत्र, भांग और धतुरा चढ़ाकर अपनी मनोकामना पूरी होने का आशीर्वाद मांगा। मंदिरों के आस पास पूजन सामग्री जैसे धतूरा, बेल-पत्र, फूल-माला और प्रसाद आदि की दुकानें सज गईं हैं। चौक स्थित कोनेश्वरन मंदिर में भक्तों की सुविधा के लिए खास इंतजाम किए गए हैं। भक्तों को समय-समय पर रोक कर भगवान के दर्शन के लिए बारी-बारी से मुख्य द्वार तक भेजा जा रहा है, ताकि भगदड़ की स्थिति उत्पन्न न हो सके। डालीगंज स्थित मनकामेश्वर मंदिर मे सुबह से ही मंदिर के कपाट खोल दिए गए हैं। भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए मंदिर में रूद्राभिषेक का आयोजन किया गया है। सुबह से ही लोग हाथों में दूध और बेलपत्र लेकर लाइन में खड़े होकर अपनी बारी आने का इंतजार कर रहे हैं। मंदिर की पूजारी देव्या गिरी ने बताया कि सावन के पहले सोमवार को रूद्राभिषेक कराना फलदायी होता है। इस साल भगवान शिव का जलाभिषेक गोमती नदी के जल से कराया गया। सावन के महीने में सच्चे मन से पूजा अर्चना करने वाले व्यक्ति की मनोकामना जरूर पूर्ण होती है। मंदिर के बाहर हजारों भक्तों की भीड़ होती है लोग भोलेनाथ के जयकारों के साथ मंदिरों में दर्शन करने के लिए पहुंचते हैं। मनकामेश्वर मंदिर मे विभिन्न तरह की झाकियां सजायी गई हैं। साथ ही भक्तों के लिए बड़ी मात्रा में प्रसाद का आयोजन भी किया गया है। मंदिर के बाहर बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स भी मौजूद है।

Pin It