शिक्षकों के वेतन भुगतान में हेराफेरी, 192 के पैन और 24 के खाता नंबर समान

शिक्षकों के वेतन भुगतान में हेराफेरी, 192 के पैन और 24 के खाता नंबर समान

अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा ने नाराजगी जताते हुए तीन दिन में रिपोर्ट मांगी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्तियों में ही हेराफेरी नहीं हुई है, बल्कि शिक्षकों के वेतन भुगतान में भी फर्जीवाड़ा हो रहा है। अभिलेखों की जांच में 192 प्रकरण ऐसे मिले हैं, जिसमें एक नाम और पैन नंबर की दो अलग-अलग इंट्री कई जिलों की फाइलों में दर्ज है, केवल उनका खाता नंबर अलग है। इसी तरह से 24 प्रकरण ऐसे हैं, जिसमें एक ही बैंक खाता नंबर अलग शिक्षकों के सम्मुख अंकित है।
अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा ने इस पर नाराजगी जताते हुए वित्त नियंत्रक शिक्षा निदेशालय और बेसिक शिक्षा परिषद से तीन दिन में रिपोर्ट मांगी है। बेसिक शिक्षा महकमे में इन दिनों शिक्षकों के वेतन संबंधी अभिलेखों का भी परीक्षण हो रहा है। वित्त नियंत्रक बेसिक प्रयागराज ने मई माह के वेतन भुगतान की रिपोर्ट 21 जून को सौंपी है। इसमें सामने आया है कि 192 प्रकरण ऐसे हैं जिसमें एक ही नाम व पैन नंबर की दो अलग-अलग इंट्री विभिन्न जिलों की फाइलों में है, लेकिन उसका खाता नंबर अलग है। इसी तरह से कुल 24 प्रकरण ऐसे हैं जिसमें एक ही बैंक खाता नंबर दो अलग शिक्षकों के नाम के समक्ष दर्ज है।

सभी संबंधित की जवाबदेही तय की जाए : रेणुका

अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा रेणुका कुमार ने आदेश दिया है कि सभी जिलों के शिक्षकों के वेतन संबंधी अभिलेखों का परीक्षण कराकर इस तरह से प्रकरणों को चिन्हित करके और अधिकारियों की जिम्मेदारी तय करते हुए तीन दिन में रिपोर्ट मुहैया कराएं। विभाग में सभी संबंधित की जवाबदेही तय की जाए। परिषदीय स्कूलों में अभिलेखों की हेराफेरी करके नियुक्ति पाने वालों की जांच चल रही है। शासन के निर्देश पर जिलों में समितियां गठित की गई हैं। साथ ही फर्जी शिक्षकों के संबंध में एसआइटी व एसटीएफ भी जांच कर रही है। वहीं बेसिक शिक्षा विभाग मानव संपदा पोर्टल के माध्यम से शिक्षकों की सेवाओं संबंधी विवरण व अभिलेखों का डिजिटलीकरण भी करा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *