शहीदों को याद कर लोगों की आंखें हुईं नम

मुंबई में 2008 में हुए आतंकी हमले की सातवीं बरसी आज
पूरे देश में शहीदों को दी जा रही श्रद्धांजलि

Capture 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। 2008 में मुंबई पर हुए 26/11 आतंकी हमले की सातवीं बरसी पर पूरा देश शहीदों को याद कर रहा है। मुबई सहित देश के अन्य शहरों में श्रद्धांजलि सभा आयोजित कर शहीदों को याद किया गया। मुंबई के नरीमन प्वाइंट पर श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया। महाराष्टï्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडऩवीस ने आतंकी हमलों में शहीदों को श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर तमाम गणमान्य लोग मौजूद थे। बड़ी संख्या में लोग भी उस बर्बर हमले में पीडि़तों को श्रद्धांजलि देने के लिए पहुंचे। शहीदों की कुर्बानी याद कर लोगों की आंखें नम हो गई।
गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने 26/11 हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि सरकार इस हमले के दोषियों को सजा दिलाने के लिए प्रयास कर रही है। लखनऊ में भी लोगों श्रद्धांजलि सभा आयोजित कर शहीदों को याद किया।
क्या हुआ था 26 नवंबर 2008 की रात
26 नवंबर 2008 की रात अचानक मुंबई शहर गोलियों की आवाज से दहल उठा था। हमलावरों ने मुंबई के दो पांच सितारा होटलों, सीएसटी रेलवे स्टेशन और एक यहूदी केंद्र को निशाना बनाया। शुरू में तो किसी को अंदाजा भी नहीं था कि यह इतना बड़ा आतंकी हमला हो सकता है। 26 नवंबर 2008 की रात में ही आतंकवाद निरोधक दस्ते के प्रमुख हेमंत करकरे सहित मुंबई पुलिस के कई आला अधिकारी भी इस आतंकवादी हमले में शहीद हो गए। शहर के लियोपोल्ड कैफे और छत्रपति शिवाजी टर्मिनस (सीएसटी) से शुरू हुआ आतंक का ये तांडव पांच सितारा होटल ताजमहल में जाकर खत्म हुआ। मुंबई शहर को आतंक के इस साए से बाहर निकालने में सुरक्षाकर्मियों को 60 घंटे से भी ज्यादा का समय लग गया। मुंबई पर हुए सबसे बड़े आतंकी हमले में 160 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई।

Pin It