शराबियों का ब्यौरा जुटा रहा प्रशासन

जिले की 60 ग्राम पंचायतों में ग्रामीणों के बारे में मांगी जा रही जानकारी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना के तहत राजधानी के 60 गांवों में शराबियों का सर्वे शुरू हो गया है। केंद्र सरकार की तरफ से मिले निर्देशों के मद्देनजर गांवों में शराब और तंबाकू की खपत के बारे में जानकारी मांगी जा रही है। इसके साथ ही स्वच्छता अभियान से भी जुड़े अनेकों सवालों को सर्वे में शामिल किया गया है। इन सभी का डेटा बनाकर ग्रामीण मंत्रालय को भेजा जाएगा, जिसके आधार पर गांवों के विकास और स्वच्छता अभियान की स्थिति का आकलन किया जायेगा।
मुख्य विकास अधिकारी उमेश मिश्र के मुताबिक प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना के तहत होने वाले सर्वे में शराब और तंबाकू उत्पादों का नशा करने वालों का ब्योरा भी जुटाया जाएगा। केंद्र के निर्देश पर राजधानी के सात विकास खण्डों के 60 गांवों को चिन्हित किया गया है। इनमें नशे के चलते प्रभावित परिवारों का आंकड़ा जुटाया जाएगा। इसके साथ ही क्षेत्रवार खपत का हिसाब भी लिया जाएगा। इस रिपोर्ट के आधार पर सुधार योजनाएं बनाने में मदद मिलेगी। अफसरों के अनुसार परिवारों की आर्थिक और सामाजिक स्थिति में गिरावट के पीछे काफी हद तक नशे की लत भी जिम्मेदार है। ऐसे में 17 सवालों के सर्वे में हर घर में शराब पीने वालों के साथ ही इलाके में शराब की दुकानों और खपत का ब्योरा भी देना होगा।
इसके अलावा सर्वे में सफाई अभियान को लेकर भी अनेकों सवाल शामिल किए गए हैं। इसके तहत खाने से पहले और बाद में तथा शौच के बाद हाथ धोने को लेकर ग्रामीणों की मानसिक स्थिति संबंधी रिपोर्ट भी तैयार की जाएगी। घर में शौचालय और उसका उपयोग करने वालों की संख्या भी जुटाई जायेगी। सर्वे में खेतिहर एवं ऊसर भूमि का विवरण भी नोट किया जायेगा। उन्होंने बताया कि सर्वे में बच्चों की रुचि जानने का सर्वे भी कराया जायेगा। इसके अलावा बच्चों के खेलों को लेकर भी सवाल पूछा जायेगा। इसके साथ ही बच्चों की अन्य रुचियों और पढ़ाई-लिखाई का भी ब्योरा जुटाना होगा।

Pin It