शत्रु संपत्तियों में रहने वाले लोगों को अब देना होगा ज्यादा किराया

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। शत्रु संपत्तियों में रहकर कौडिय़ों के बराबर किराया देने वालों के लिए बुरी खबर है। अब उन्हें नए डीएम सर्किल रेट के आधार पर किराया देना होगा। इसके तरह आवासीय संपत्तियों में रहने वालों को 20 फसीदी और व्यवसायिक संपत्तियों में रहने वालों को 30 फीसदी ज्यादा किराया देना होगा। बताते चलें कि ये लोग अभी तक पुराने समय से तय महज चार से 52 रुपए ही किराया दे रहे हैं।
बढ़े हुए किराए की यह दर एक अप्रैल से लागू की गई है। इसके तहत सभी किराएदारों को 15 अप्रैल तक बढ़ा हुआ किराया जमा कर प्रमाण पत्र प्राप्त करना होगा। 30 अप्रैल तक डीएम राजशेखर ने सभी तहसीलदार व एसडीएम से रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा है। कृषि, नीलामी तथा पट्टे की संपत्तियों के किराया भी 20 फीसदी बढ़ाया गया है। आंकड़ों के मुताबिक, राजधानी में कुल 138 शुत्र संपत्तियां हैं, जिनमें सर्वाधिक सदर तहसील क्षेत्र में हैं। डीएम सर्किल रेट की तरह शत्रु संपत्तियों का किराया भी प्रत्येक वर्ष छह फीसद के हिसाब से बढ़ेगा।

साथ ही प्रत्येक पांच वर्ष पर नए किराएदारी का सत्यापन भी किया जाएगा। एडीएम प्रशासन राजेश कुमार पांडेय के मुताबिक, शत्रु संपत्तियों का किराया नहीं जमा करने पर लोगों को मकान छोडऩा पड़ेगा। तहसीलदार व एसडीएम को किराया वसूली की जिम्मेदारी सौंपी गई है। 15 अप्रैल तक किराया वसूलने में विफल साबित होने वाले तहसीलदारों के वतन से से कटौती की जाएगी।

Pin It