व्यवसाई की हत्या कर लाखों की डकैती

Captureजानकीपुरम क्षेत्र में डकैतों ने तीन घरों पर बोला धावा, लोगों में दहशत, परिजनों में मचा कोहराम

100 नंबर पर सूचना देेने के बाद भी नहीं पहुंची पुलिस, क्राइम ब्रांच को सौंपी गई जांच

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। जानकीपुरम थाना क्षेत्र में देर रात डकैतों ने जमकर कोहराम मचाया। डकैतों ने एक नहीं बल्कि तीन घरों में तांडव मचाया और आराम से सामान लेकर फरार हो गए मगर सूचना के बावजूद मौके पर पुलिस नहीं पहुंची। डकैतों ने लाखोंं की डकैती करनेेे बाद एक व्यवसाई को लोहे की राड से पीट-पीट कर हत्या कर दी और 4 लोगों को घायल कर चलते बने। जबकि इसकी सूचना 100 नंबर पर दी गई फिर भी पुलिस मौके पर नहीं पहुंची। हद तो तब हो गई जब एसएसपी को इसको जानकारी हुई और उन्होंने आदेश दिया उसके दो घंटे के बाद मौके पर पुलिस पहुंची। पुलिस ने डकैतों को पकडऩे के लिए घेराबंदी की लेकिन वो फरार हो गए। फिलहाल इस मामले को क्राइम ब्रांच को सौंप दिया गया है और लगभग दो दर्जन लोगों को पुलिस ने पूछताछ के लिए उठाया है।
जानकीपुरम थाना क्षेत्र के रसूलपुर में लगभग दो दर्जन की संख्या में डकैतों ने रात में सबसे पहले विजयपाल के घर में धावा बोला। डकैतों ने विजयपाल की पत्नी और उनकी बेटी मानवी सहित अन्य परिजनों को बंधक बना लिया। विरोध करने पर डकैतों ने सभी को जमकर पीटा। इसके बाद घर में मौजूद एक लाख रुपये के जेवर और पांच हजार रुपये नकद लूटकर पास में ही पत्रकार अनुपम पांडेय के घर पर गए। डकैत अनुपम का दरवाजा खुलवाने लगे। अनुपम ने उनसे उनके बारे में पूछा तो उन लोगों ने बोला दरवाजा खोला। इस बीच अनुपम ने 100 नंबर पर इसकी सूचना दी और डकैतों से बातचीत करते रहे। लगभग 25 मिनट में डकैतों ने दरवाजा काट डाला और अंदर घुस आए। इस बीच बगल के छत पर अनिल वर्मा सो रहा था। अनिल, अनुपम और डकैतों के बात सुनकर उठ गया। वह शोर मचाने लगा तो चार-पांच डकैत उसको दबोच लिए। उसे चुप कराने के लिए राड से पीट-पीट कर मार डाला। इधर अनुपम के घर में भी डकैतों ने जमकर तांडव मचाया। घर में मौजूद नकद लगभग एक लाख रुपये का कैश, लैपटॉप और चार मोबाइल लूट लिये। डकैत बगल के घर अनिल के घर को बाहर से बंद कर दिया। घर में अनिल के मां-बाप, भाई-भाभी अंदर सो रहे थे। शोर सुनकर ये लोग उठे तो दरवाजा बंद पाया। इन लोगों ने बगल के पड़ोसी दिनेश भ_ï को फोन किया। दिनेश भट्टï बाहर निकले और डकैतों से भिड़ गए। उन्हें भी डकैतों ने घायल कर दिया। इस बीच श्री भट्टï का पालतू कुत्ता आ गया और भौंकने लगा। कुत्ते के भौकने से डकैत का मनोबल कम हुआ। डकैत सामान बटोर फरार हो गए।

कप्तान के आदेश के बाद सक्रिय हुई पुलिस

रात लगभग दो बजे डकैतों ने धावा बोला तो पत्रकार अनुपम ने सबसे पहले थानाध्यक्ष जानकीपुरम, सीओ और एएसपी टीजी के सीयूजी नम्बर पर कॉल किया लेकिन किसी ने फोन रिसीव नहीं किया। अनुपम ने कॉल रिसिव नहीं होने पर कप्तान को फोन किया। कप्तान ने फोन रिसीव किया और सारी जानकारी ली और घटनास्थल के लिये रवाना हो गये। उनके सक्रिय होने के बाद बाकी पुलिस सक्रिय हुई। एसएसपी राजेश कुमार पांडेय ने बताया कि ईंट-भ_ïों पर कार्य करने वाले कंजडों पर आशंका जाहिर हो रही है।

एक दिन पूर्व दुकान का किया था उद्घाटन

अनिल एक दिन पूर्व तकरोही में अपनी कपड़े की दुकान का उद्घाटन किया था। परिजनों के मुताबिक अनिल मेहनती था। वह लखनऊ में तीन वर्ष से अपने भाई के साथ रहता था। घटना के वक्त अनिल वर्मा छत पर सो रहा था। अनिल की शादी तय हो गई थी। तीन माह बाद उसकी शादी होने वाली थी। अपनी शादी की तैयारी कर रहा था। इसी बीच उसके साथ यह घटना हो गई।

कुत्ते की वजह से बचे कई घर

डकैती के शिकार हुये अनिल के पड़ोसी दिनेश भट्ïट के कुत्ते ने भी वहां के अन्य लोगों को लुटने से बचाया। शोर सुनकर बाहर आये दिनेश भट्ïट जब डकैतों से भिड़ गये तो शोरगुल सुनकर उनका कुत्ता भी चौकन्ना हो गया और डकैतों पर भौंकने लगा व उन पर टूट पड़ा। कुत्ता भौंकते-भौंकते इधर-उधर दौड़ता रहा जिससे अन्य पड़ोसी भी जग गये। कुत्ते के लगातार भौंकने के कारण डकैतों का मनोबल थोड़ा कमजोर हुआ और उन्हें डर लगने लगा कि कहीं लोगों की ज्यादा संख्या न इकट्ïठा हो जाये इसलिये वह वहां से भाग निकले।

Pin It