वोटर आईडी के 17 विकल्पों को मिली मान्यता

पंचायत चुनाव में वोटरों को मिलेगी सुविधा

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। जिला निर्वाचन अधिकारी राजशेखर ने त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में मतदाताओं की पहचान सुनिश्चित करने के लिए मतदाता पहचान पत्र के विकल्पों की घोषणा कर दी है। निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार मतदाता के पास इसमें से कोई एक पहचान पत्र होना अनिवार्य कर दिया गया है। पहचान पत्र नहीं होने की स्थिति में मतदान से वंचित कर दिया जायेगा।
निर्वाचन आयोग के अनुसार मतदाता पहचान पत्र के अलावा अन्य 17 विकल्पों को मान्य घोषित किया गया है। इसमें मतदाता पहचान पत्र के अलावा आधार कार्ड, पासपोर्ट, ड्राईविंग लाइसेन्स, आयकर पहचान पत्र पैनकार्ड, राज्य व केन्द्र सरकार सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों स्थानीय निकायों अथवा पब्लिक लिमिटेड कंपनियों द्वारा उनके कर्मचारियों को जारी किये जाने वाले फ ोटोयुक्त पहचान पत्र, सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों व पोस्ट आफि स द्वारा जारी फोटोयुक्त पासबुक, फ ोटोयुक्त सम्पत्ति संबंधी मूल अभिलेख यथा-पट्टा विलेख रजिस्ट्रीकृत डीड आदि मान्य है। इसके अलावा फोटोयुक्त किसान बही, फ ोटोयुक्त पेंशन अभिलेख, भूतपूर्व सैनिक पेंशन बुक, पेंशन भुगतान ओदश, वृद्वावस्था पेंशन, स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी पहचानपत्र, फ ोटोयुक्त शस्त्र लाइसेन्स, शारीरिक रूप से अशक्त होने का प्रमाण पत्र, महात्मा गॉधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार योजना के अन्तर्गत जारी जाब कार्ड, श्रम मंत्रालय की योजना के अन्तर्गत जारी स्वास्थ्य बीमा स्मार्ट कार्ड, सांसदों, विधायको, विधान परिषद सदस्यों को जारी किये गये सरकारी पहचान पत्र, राशनकार्ड में से कोई दस्तावेज जो परिवार के मुखिया के पास ही उपलब्ध होते है वे उक्त परिवार के दूसरे सदस्यों की पहचान के लिए भी वैध माने जायेंगे, बशर्ते कि सभी सदस्य एक साथ आते है और उन सदस्यों की पहचान परिवार के मुखिया द्वारा की जायेगी। इन पहचान पत्रों के नहीं होने की स्थिति में मतदाता को वोट देने से रोक दिया जायेगा।

Pin It