वेतन दिए बिना भागी पुरानी कंपनी, नई मांग रही एक हजार

केजीएमयू के ठेकाकर्मियों पर दोहरी मार

केजीएमयू में दो महीने से ठेकाकर्मियों को नहीं मिला है वेतन

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। केजीएमयू में ठेकाकर्मियों पर दोहरी मार पड़ रही है। यहां 6000 मासिक वेतन पाने वाले सैकड़ों ठेकाकर्मियों का शोषण जारी है। हालत यह है कि पहली कंपनी दो माह का वेतन दिए बिना चली गई तो नई कंपनी ने ठेकाकर्मियों से पंजीयन के लिए एक हजार की मांग की है। लिहाजा ठेकाकर्मियों को नौकरी बचाने के लिए नई कम्पनी को एक हजार रुपये रजिस्ट्रेशन के लिए देने पड़ रहे हैं। ये हालात तब है जब ठेकाकर्मियों को पुरानी कंपनी से दो महीने का वेतन नहीं मिला है।
इसके अलावा पुरानी कंपनी ने कर्मचारियों का पीएफ भी नहीं दिया है। इस मामले पर केजीएमयू प्रशासन चुप्पी साधे बैठा है। केजीएमयू स्थित पीएमआर सेंटर समेत अन्य विभागों में मानव संसाधनों के आपूर्ति की जिम्मेदारी संभालने वाली कम्पनी बेबग्योर का ठेका समाप्त हो गया है। उसकी जगह पर अवनी नामक कंपनी को केजीएमयू के 29 विभागों में मानव संसाधनों की आपूर्ति कराने का ठेका दिया है। जिसके बाद इस कम्पनी ने सभी कर्मचारियों को 1000 रुपये रजिस्ट्रेशन कराने के नाम पर जमा करने को कहा है। इससे दो महीने से वेतन न पाने वाले दर्जनों कर्मचारियों के सामने अपनी नौकरी बचाने का खतरा पैदा हो गया है। इस मामले में पीएमआर सेंटर के कर्मचारियों ने कुलसचिव को पत्र लिखकर अपनी समस्या से अवगत कराया है तथा उचित कार्रवाई करने की मांग की है।

Pin It