वीआईपी लोगों का पार्षद रखते हैं पूरा ध्यान, आमजन दरकिनार

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी के कई मोहल्लों में आम जनता को सोडियम लाइट लगवाने के लिए कई चक्कर लगाने पड़ते हैं। वहीं, जानकीपुरम द्वितीय वार्ड में भले ही स्ट्रीट लाइट न लगी हो, लेकिन पार्षद के घर की छत पर जरूर दर्जनों फिटिंग के सामान का ढेर लगा हुआ है। इससे क्षेत्रीय लोगों में काफी नाराजगी है। सिकंदरपुर के लोगों ने आरोप लगाया कि गलियों में मार्ग प्रकाश की व्यवस्था बेहतर नहीं है। तमाम शिकायतों के बाद भी आज तक मार्ग प्रकाश की व्यवस्था नहीं हो पायी। पार्षद सिर्फ जान पहचान वालों को ही सुविधा का लाभ दे रहे हैं।
पार्षद कैलाश यादव ने आरोप लगाया कि नगर निगम की जमीनों पर कई लोगों ने कब्जा कर रखा है। आज तक उसे मुक्त नहीं कराया जा सका है। इस संबंध में नगर निगम प्रशासन को भी कई बार अवगत कराया जा चुका है। इसी के चलते कुछ लोग मुझ पर गलत आरोप लगा रहे हैं। छत पर रखा फिटिंग का सामान मेरे पार्षद कोटे का है। वहीं, निगम अधिकारी बताते हैं कि चार किस्तों में पार्षद अपने वार्ड में 76 सोडियम लगवा सकता है। यानी पांच साल में करीब 380 सोडियम लाइट वार्ड में लगवा सकते हैं। मार्ग प्रकाश से जुड़े सूत्रों की मानें तो कई पार्षद अपने कोटे से ज्यादा सोडियम लगवा लेते हैं। पार्षद यह सुविधा उन वीआइपी वोटरों को देते हैं जो उनके पक्के वोट बैंक होते हैं।

Pin It