विरोधी दल से मिले आरक्षण समर्थक नेता

पुलिसकर्मियों को गलत तरह से डिमोट करने का मामला

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। सुप्रीम कोर्ट के आदेश की आड़ में पुलिस कर्मचारियों का नियम विरुद्ध डिमोशन करने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। इस मामले पर कई आरक्षण समर्थकों ने गुरुवार को नेता विरोधी दल स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ बैठक कर उन्हें वस्तुस्थिति से अवगत कराया। इस अवसर पर स्वामी प्रसाद मौर्य ने डिमोट किए गए पुलिस कर्मचारियों का ब्योरा मांगा है।
आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति के संयोजक अवधेश वर्मा और आरपी ने बताया कि नेता विरोधी दल ने मुख्यमंत्री से फोन पर वार्ता की और उन्हें वस्तुस्थिति से अवगत कराया, जिस पर मुख्यमंत्री ने आश्वासन दिया है कि मुख्य सचिव इस मसले पर जल्द ही समीक्षा करेंगे और दलित पुलिस कर्मियों सहित अन्य विभागों के कर्मचारियों को न्याय दिलाया जाएगा। इस अवसर पर समिति पदाधिकारियों ने बताया कि प्रदेश सरकार के इशारे पर कई विभागों में सुप्रीम कोर्ट के आदेश की आड़ में गलत तरीके से दलित कार्मिकों को डिमोट किया जा रहा है। पुलिस विभाग में सब इंस्पेक्टर, हेड कांस्टेबल, प्रतिसार निरीक्षक व पुलिस उपाधीक्षक जिनकी पदोन्नति सामान्य विभागीय परीक्षा के आधार पर मेरिट बनाकर की गई थी लेकिन फिर भी उन्हें डिमोट कर दिया गया। उनका कहना है कि जब तक गलत तरीके से डिमोट दलित कर्मचारियों को प्रदेश सरकार न्याय नहीं देगी तो उनका संघर्ष जारी रहेगा।

Pin It