लारी में डॉक्टरों की लापरवाही से मरीज की मौत, हंगामा

परिजनों ने डॉक्टरों के खिलाफ दी तहरीर

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। केजीएमयू के हृदय रोग विभाग के सर्जरी विभाग में डॉक्टरों की लापरवाही से एक मरीज की मौत हो गयी। जिसके बाद मरीज के परिजनों ने जमकर हंगामा किया। मरीज के साले की ओर से लारी के सर्जरी वार्ड में ड्यूटी के दौरान मौजूद डॉक्टरों के खिलाफ तहरीर दी गयी है।
नादान महल के रहने वाले फि दाऊल हुसैन (39) को बीती 15 सितंबर को लॉरी के सर्जरी वार्ड में भर्ती कराया गया था। उनके दोनों वॉल्वों का ट्रांसप्लांट होना था। मरीज के साले अरशद ने बताया कि लारी के डॉक्टरों की ओर से वॉल्व के ट्रांसप्लांट को लेकर लगातार टालमटोल किया जा रहा था जिससे मरीज की हालत लगातार खराब होती जा रही थी। जिससे मरीज के लीवर में सूजन आ गई थी। मंगलवार को जब लॉरी के सीनियर डॉक्टर एसके सिंह ने मरीज को देखा तो मरीज के लीवर में सूजन आ चुकी थी और हालत गंभीर थी। जिसके चलते डॉ. एसके सिंह ने मरीज कां तुरंत आईसीयू में रखने के लिए क हा । सुबह 10 से 12 बजकर 35 मिनट तक मरीज को आईसीयू में रखा गया। डॉ. एसके पांडेय के जाने के बाद जूनियर डॉक्टरों ने बिना किसी से पूछे जांचे मरीज को आईसीयू से हटा दिया और उसे ट्रॉमा ले जाने के लिए कहा। आईसीयू से निकालने के बाद मरीज की हालत बिगड़ गई और उसकी स्थिति मरणासन्न हालत में हो गई। जिसके बाद मरीज के परिजनों ने हंगामा काटना शुरू कर दिया। परिजनों ने लारी सेंटर में जमकर उत्पात मचाया। परिजनों का आरोप है कि बिना सीनियर डॉक्टर की परमीशन के बगैर जूनियर डॉक्टरो ने मरीज को आईसीयू से हटा दिया। जिसके बाद उसकी हालत खराब हो गई। जिसके बाद मौके पर पुहंची पुलिस ने मामले को शांत कराया था। जिसके बाद मरीज को सर्जरी वार्ड में फिर से आईसीयू में रखा गया था। गुरूवार को देर रात मरीज ने दम तोड़ दिया। मृतक के परिजनों ने लॉरी विभाग के सर्जरी विभाग के डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाकर जमकर हंगामा काटा।
मृतक के साले अरशद की ओर से लॉरी के डॉ. वेद और अजय पांडे के खिलाफ तहरीर दी है। वजीरगंज के एसओ जेपी सिंह ने बताया कि मरीज के साले अरशद की ओर से थाने में तहरीर दी गयी है। मेडिकल प्रोटेक्शन एक्ट के अनुसार पहले जांच होगी और जांच के बाद ही कार्यंवाई होगी।

Pin It