लापरवाही से बच्चे की मौत पर कार्रवाई के लिए सीएमओ से की शिकायत

लखनऊ। डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी (सिविल) अस्पताल में बीते शुक्रवार को नर्स द्वारा गलत इंजेक्शन लगाने से हुई पांच साल के बच्चे की मौत पर स्वास्थ्य विभाग के ढुलमुल रवैये के चलते परिजन न्याय के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहे है। लेकिन पांच दिन बीतने के बाद भी स्वास्थ्य महकमा हाथ पर हाथ धरे बैठा हुआ है। वहीं हजरतगंज पुलिस भी चिकित्सक का मामला होने के चलते प्राथमिकी दर्ज नहीं कर रही है। परिजनों का कहना है पुलिस से लेकर सीएमओं तक चिकित्सकीय स्टाफ द्वारा बच्चे के इलाज में की गयी लापरवाही की जांच नहीं करा रहे हैं।
गौरतलब है कि शुक्रवार को सेंट फ्रांसिस के कक्षा पांच के छात्र वत्सल की सिविल अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई थी। परिजनों व अन्य तीमारदारों ने नर्स पर गलत इंजेक्शन लगाने का आरोप लगाया था। इसे लेकर उन्होंने काफी देर तक हंगामा किया था। हंगामे की सूचना पर हजरतगंज पुलिस और अस्पताल के वरिष्ठ अधिकारी पहुंचे। उन्होंने परिवार के लोगों को समझाया जिसके बाद परिजनों बच्चे का शव लेकर चले गए। दो दिन बाद परिजन ने इलाज में लापरवाही से बच्चे के मौत के मामले में सीएमओ कार्यालय में शिकायत की। लेकिन तीन दिन बीतने के बाद भी सीएमओ ने इस मामले की सुध भी नही ली। थकहार कर बच्चे के परिजन आज डीएम व एसएसपी के पास न्याय की गुहार लेकर पहुंचे हैं।

Pin It