लश्कर का टॉप कमांडर अबू कासिम ढेर

अबू कासिम पर था 20 लाख का इनाम
एनआईए को लंबे समय से थी तलाश

Captureश्रीनगर । आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का टॉप कमांडर और जम्मू-कश्मीर में सिक्युरिटी फोर्सेस पर हुए कई हमलों के मास्टरमाइंड अबू कासिम को सुरक्षाबलों ने मार गिराया है। कश्मीर के कुलगाम में एनकाउंटर बुधवार रात से गुरुवार तडक़े तक चला। कासिम उधमपुर में बीएसएफ जवनों पर हुए हमले में शामिल आतंकी नवेद का हैंडलर रहा है। नावेद और पाकिस्तान से आए उसके बाकी साथियों को कासिम ने ही रिसीव किया था।
कासिम और सुरक्षाबलों के बीच एनकाउंटर दक्षिण कश्मीर के कुलगाम जिले के बांदीपुरा में बुधवार देर रात शुरू हुआ। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सेना को जानकारी मिली थी कि एक पुलिस पैट्रोलिंग पार्टी पर फायरिंग करने के बाद आतंकियों का एक ग्रुप जंगल में छिप गया है। इस फायरिंग में 14 राष्टï्रीय राइफल्स का एक जवान शहीद हो गया था। सिक्युरिटी फोर्सेस ने जंगल को घेर लिया और एनकाउंटर शुरू हो गया। यह गुरुवार तडक़े तक चला।
नेशनल इन्वेस्टीगेशन एंजेसी को अबू कासिम की लंबे वक्त से तलाश थी। उस पर 20 लाख रुपए का इनाम भी घोषित था। अबू कासिम 2013 में भारत आया था। वह सुरक्षाबलों के लिए हमेशा मिस्ट्री बना रहा। इतने सारे हमलों की प्लानिंग के बावजूद वह बीते कई सालों से जम्मू-कश्मीर में एक्टिव था। इंटेलिजेंस एजेंसियां और सिक्युरिटी फोर्सेस उसे पकडऩे में अब तक नाकाम रही थीं। अबू कासिम का कई घटनाओं में हाथ रहा है। अबू कासिम ने जून 2013 में श्रीनगर के हैदरपुरा में सेना के काफिले पर हमला किया था। इसमें 9 जवानों की मौत हो गई थी, जबकि 11 घायल हो गए थे। इसके अलावा जम्मू-कश्मीर में आतंकियों से मोर्चा लेने के लिए मशहूर रहे टॉप पुलिस अफसर अल्ताफ अहमद की हत्या में भी कासिम का हाथ था। इस साल 5 अगस्त को उधमपुर जिले में बीएसएफ के काफिले पर हुए आतंकी हमले में भी शामिल था।
इस हमले में एक आतंकी मारा गया, जबकि दूसरे आतंकी नवेद को पकडऩे में कामयाबी मिली थी। इसके पहले पाकिस्तानी आतंकी नवेद ने बताया था कि बॉर्डर क्रास करने के बाद कासिम ने ही उन्हें रिसीव किया। उन्हें और ज्यादा हथियार और गोला-बारूद मुहैया कराया। यह भी दावा किया गया है कि नवेद के पकड़े जाते वक्त वहां कासिम भी मौजूद था। सूत्रों के मुताबिक, कासिम शोपियां और कुलगाम जिले के जंगलों से ऑपरेट करता था। वह बॉर्डर क्रॉस करके भारत में घुसने वाले आतंकियों को पनाह देता था। साथ ही, उन्हें यह बताता था कि कहां और कैसे हमला करना है।

Pin It