लड़कियों के जींस और डीजे पर पाबंदी का ऐलान

पंचायत का तुगलकी फरमान
बागपत। अक्सर पंचायतें अपना तुगलकी फरमान जारी करती रहतीं हैं। ताजा मामला बावली गांव का है। यहां एक पंचायत में जींस और डीजे पर पाबंदी लगाने का ऐलान किया गया है। यही नहीं, पंचायत में कहा गया कि छेड़छाड़ की वजह पहनावा है, जबकि मेकअप, भू्रण हत्या का कारण है। पंचायत ने सगोत्रीय विवाह को गलत बताते हुए कहा कि इस तरह के बढ़ते मामलों के लिए सरकार जिम्मेदार है। इसका विरोध जरूरी है। पंचों ने यह भी कहा कि किसी की मौत के बाद होने वाले ब्राह्मण भोज पर भी रोक लगनी चाहिए। डीजे का चलन बंद होना चाहिए और छेड़छाड़ की वजह चुस्त पहनावा है। सूट-सलवार से अच्छा कोई पहनावा नहीं है। पंचायत में शामिल बुजुर्ग सुंदरलाल ने कहा कि भ्रूण हत्या की वजह मेकअप है। इसके चलते बुद्धि ने काम करना बंद कर दिया है। अपने खून को खुद मारा जा रहा है। सत्येंद्र तोमर ने कहा कि सामाजिक बुराइयों में सुधार हो। डीजे से ध्वनि प्रदूषण होता है। पैसे की भी बर्बादी होती है। छेड़छाड़ की वजह चुस्त पहनावा है। टाइट पहनावे की वजह से विचार मन में सही नहीं आते। सगोत्रीय विवाह करने वालों का बिरादरी से बहिष्कार किया जाएगा। यह पंचायत वरिष्ठ समाजसेवी समिति बवाली ने बुलाया था। 60 साल से अधिक उम्र के लोग इस पंचायत से समाज को नई दिशा देने का दावा कर रहे थे।

Pin It