लखनऊ से दिल्ली जा रही वॉल्वो बस पलटी, दो की मौत 25 लोग घायल

घायलों को भेजा गया हैलट अस्पताल

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Captureलखफ। लखनऊ से दिल्ली जा रही रोडवेज की प्लेटिनम लग्जरी वॉल्वो बस रविवार रात करीब 1 बजे पनकी पड़ाव के पास एक ट्रक से टकरा कर पलट गई। इससे एक महिला समेत दो लोगों की मौत हो गई और करीब 25 लोग घायल गए।
घायलों को हैलट अस्पताल भेजा गया है। पुलिस व फायर ब्रिगेड के जवानों ने पहुंचकर बस में फंसे यात्रियों को निकाला। अभी हताहतों की संख्या बढऩे की आशंका है। एक मरने वाले की शिनाख्त लखनऊ में बख्शी का तालाब निवासी सुधीर सिंह के तौर पर हुई है जबकि महिला की पहचान नहीं हो सकी।
पुलिस के अनुसार, यूपी रोडवेज की ‘प्लेटिनम लाइन लग्जरी सर्विस’ की वॉल्वो बस (यूपी 32 सीजेड 2849) देर रात लखनऊ से चली थी और दिल्ली जा रही थी। बस में ड्राइवर,कंडक्टर और हेल्पर सहित कुल 48 यात्री थे। इनमें 39 ने ऑनलाइन बुकिंग कराई थी और 6 सवारी वीआईपी थीं। यात्रियों ने बताया कि ड्राइवर लखनऊ से ही बस को गलत तरीके से चला रहा था। कई बार बस लहराई थी।
जाजमऊ गंगा पुल पर भी बस लहराई थी जिससे बस गंगा में गिरते-गिरते बची थी। सभी यात्री चीख पड़े थे। इसके बाद बस जब पनकी पड़ाव के पास पहुंची तो एक मोड़ पर ड्राइवर से बस असंतुलित हो गई और मुड़ते वक्त सडक़ किनारे पड़े गिट्टी के ढेर पर चढ़ गई। यात्रियों ने बताया कि इसके बाद बस सामने से आ रहे मौरंग लदे एक ट्रक से टकराई और फिर पलट कर दो कुलाटी खाते हुए एक खंभे से टकराई। बस की रफ्तार इतनी तेज थी हादसे के बाद बस के पुर्जे-पुर्जे बिखर गए। बस की बाडी फट गई और इंजन के भी टुकड़े हो गए। यात्रियों में चीख-पुकार मच गई। आस-पास के लोग दौड़े और बस में फंसे लोगों को निकालना शुरू किया। थोड़ी देर में पनकी थाने सहित कई थानों की फोर्स, फायर ब्रिगेड की गाडिय़ां पहुंच गईं और फंसे यात्रियों को निकाला। शहर भर की एंबुलेस बुला ली गईं और उनसे घायल यात्रियों को हैलट अस्पताल भेजा। तब तक एक महिला और एक पुरुष यात्री की मौत हो चुकी थी। महिला का शव बस के अंदर इतनी खराब हालत में शीशों के बीच फंसा था कि उसे निकाला नहीं जा सका था।

भयानक था दृश्य
पनकी पड़ाव में जिस जगह रोडवेज की बस पलटी वहां का नजारा दिल दहलाने वाला था। पूरी बस खून से रंगी थी, बस की सीटें उखड़ चुकी थीं, सभी शीशे चकनाचूर होकर यात्रियों के शरीर में घुस गए थे। कांच से किसी यात्री का हाथ फटा तो किसी की गर्दन। किसी के पेट में तो किसी के माथे पर कांच से कटने के निशान थे। बेहोश यात्री बस के अंदर इधर-उधर बिखरे पड़े थे। सडक़ भी खून से रंगी थी। जब पुलिस पहुंची तो अधिकतर यात्री बस के अंदर बेहोश थे। बाकी यात्री भी कुछ कहने की स्थिति में नहीं थे। वहां का नजारा देख शहर भर की एंबुलेंस बुला ली गईं और हैलट व उर्सला सहित अस्पतालों को अलर्ट कर दिया गया। थोड़ी ही देर में एंबुलेंसों से घायल यात्रियों को हैलट भेजना शुरू कर दिया गया। हैलट में सभी डॉक्टरों-स्टाफ को बुला लिया गया और स्टोर रूम से इलाज संबंधी सारा सामान मंगा लिया गया।

Pin It