लखनऊ में हड़ताल से हाहाकार

राजधानी में आज का दिन हड़ताल के नाम रहा। लोहिया संस्थान के कर्मचारियों ने अपनी वेतन बढ़ोत्तरी की मांग को लेकर तालाबंदी कर दी है। संस्थान के सभी कर्मचारी बाहर बैठकर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं और इलाज की आस में अस्पताल आने वाले लोग मायूस लौटने को मजबूर हैं। वहीं प्रदेश भर के हजारों होमगार्ड्स अपनी वेतन बढ़ोत्तरी और अन्य मांगों को लेकर विधानसभा का घेराव कर रहे हैं। इन होमगार्र्ड्स की भीड़ को नियंत्रित करने में पुलिस के पसीने छूट गये हैं, जबकि होमगार्ड्स के धरना प्रदर्शन की वजह से लोगों को भयंकर जाम से जूझना पड़ा है।

लोहिया संस्थान में तालाबंदी

8 AUG PAGE- 1 rev14पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। प्रदेश सरकार की तरफ से ढेरों कवायदों के बाद भी चिकित्सा व्यवस्था सुधरने का नाम नहीं ले रही है। सरकारी अधिकारियों की उदासीनता से सरकार के बेहतर इलाज के दावे पर पानी फिर रहा है। कोर्ट के आदेश के बावजूद चिकित्सक व स्वास्थ्यकर्मी हड़ताल पर हैं। इससे मरीजों को स्वास्थ्य लाभ मिलने में परेशानी होने के साथ ही सरकार की भी किरकिरी हो रही है।
डॉ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में अधिकारियों की कछुआ चाल का के कारण बीते एक साल से संविदा कर्मचारी वेतन बढ़ोत्तरी की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। कर्मचारियों ने अपने वेतन बढ़ोत्तरी की मांग को लेकर मुख्यमंत्री तक का दरवाजा खटखटाया। उन्हें वेतन बढ़ोत्तरी का आश्वासन तो दिया लेकिन वेतन बढ़ोत्तरी नहीं की गई। आखिरकार एक साल बीत जाने के बाद भी संविदा कर्मचारियों के सब्र का बांध टूट गया। अपनी मांगों को लेकर एक हप्ता धरना प्रदर्शन करने के बाद कर्मचारियों ने आज पूर्ण रूप से कार्य का बहिष्कार कर दिया। संस्थान में मौजूदा समय में 800 कर्मचारी कार्यरत हैं। इनके हड़ताल पर चले जाने से अस्पताल में भर्ती मरीजों की जान पर आफत आ गई है। संस्थान में पहुंचने और चिकित्सकों की मौजूदगी के बाद भी इलाज न मिलने की वजह से लोग दम तोडऩे की कगार पर पहुंच गए हैं। मजबूरन दूसरे अस्पतालों की तरफ रूख कर रहे हैं। संस्थान में कर्मचारियों ने मेन गेट पर ही धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया है। इसलिए चाह कर भी कोई न तो अन्दर जा सकता है और न अंदर से बाहर आ सकता है।

हजरतगंज में होमगार्ड्स का प्रदर्शन

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। प्रदेश भर के हजारों होम गार्ड वेतन बढ़ाने की मांग को लेकर जीपीओ पार्क में इकठ्ठा हैं। इस वजह से आस-पास की सडक़े पूरी तरह से ब्लाक हो गई हैं। होमगार्ड्स की भयंकर भीड़ को देखते हुए पुलिस और प्रशासन की तरफ से सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। यदि होमगार्ड्स सीएम आवास की तरफ कूच करना चाहेंगे, तो उन्हें रोकने के लिए जगह-जगह बैरीकेङ्क्षडग लगाई गई है। वहीं होमगार्ड्स एसोसिएशन के पदाधिकारियों का कहना है कि सरकार उनकी मांगों को लेकर बिल्कुल भी गंभीर नहीं है। इसलिए मजबूरन अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन करना पड़ रहा है।
उत्तर प्रदेश होमगार्ड्स अवैतनिक अधिकारी व कर्मचारी एसोसिएशन के कार्यवाहक प्रदेश अध्यक्ष अरविंद सिंह ने कहा कि हमारे संगठन के लोग वर्ष 2008 से लगातार अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। होमगार्ड जवानों की समस्याओं के बारे में शासन स्तर से लेकर मुख्यमंत्री तक को पत्र और ज्ञापन दे चुके हैं। समस्याओं के संबंध में मुख्य सचिव और मंत्रिमण्डलीय सचिव स्तर के अधिकारियों से वार्ता हो चुकी है लेकिन अब तक सरकार ने कोई फैसला नहीं किया। मुख्य सचिव के फैसले का अनुपालन भी अब तक नहीं हुआ। जबकि होमगार्ड्स के भरोसे प्रदेश भर के थानों में काम हो रहा है।
होमगार्ड्स का लगातार उत्पीडऩ हो रहा है। इसलिए हमारी मांग है कि सर्वोच्च न्यायालय के आदेश का अनुपान हो, सेवानिवृत्त होने पर 20 लाख रुपये एकमुश्त मिले। किसी भी दशा में जवान की मृत्यु होने पर पारिवारिक सहायता के रुप में कम से कम 20 लाख दिए जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा गाय किसानों के पास है, बीजेपी के पास गाय नहीं है

  • कैबिनेट की बैठक में राज्य कर्मचारियों के एचआरए में तीस प्रतिशत की बढ़ोत्तरी समेत कई महत्वपूर्ण फैसलों को मिली मंजूरी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने गोरक्षा के मुद्दे पर बीजेपी पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि गाय किसानों के पास है, गांवों में है, हमारे घर पर है लेकिन बीजेपी के पास नहीं है। गोरक्षा के मामले में बीजेपी की असलियत सभी जानते हैं। इस बारे में किसी को कुछ बताने की जरूरत नहीं है। प्रदेश में सपा सरकार विकास की दिशा में लगातार काम कर रही है। लेकिन प्रदेश के सांसदों को विकास के लिए मिलने वाला सांसद निधि का पैसा नहीं मिल पा रहा है। इसलिए काफी कुछ विकास का काम प्रभावित हो रहा है। ऐसे में उन्होंने सांसदों से विकास निधि के लिए मिलने वाला धन देने की अपील की है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की अध्यक्षता में आज कैबिनेट मंत्रियों की बैठक बुलाई

गई थी।
इस बैठक में राज्य कर्मचारियों के एचआरए में 30 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी, कौशल विकास के लिए अलग से इंस्टीट्यूट स्थापित करने, केजीएमयू कर्मचारियों को पीजीआई की तरह वेतन देने और मिर्जापुर में बिजली घर को पानी देने का प्रस्ताव पास हो गया। इसके अलावा डिजायन इंस्टीट्यूट को मुफ्त जमीन देने, उदय योजना के माध्यम से बिजली व्यवस्था में सुधार और एक्सप्रेस वे पर कंसल्टेंट से अतिरिक्त के प्रस्ताव को मंजूरी मिल गई है। कैबिनेट की बैठक के बाद मुख्यमंत्री ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि स्किल डेवलपमेंट का प्रोग्राम सरकार चला रही है। रोजगार के क्षेत्र में सरकार काम कर रही। कर्मचारियों की मांग को सरकार ने स्वीकार किया है। हमारी सरकार सुनती है और रास्ता भी निकालती है। उन्होंने आरक्षण के मुद्दे पर कहा कि आरक्षण का विषय बड़ा और महत्वपूर्ण है। जनता को आरक्षण के साथ सम्मान भी मिलना चाहिए। इस मुद्दे पर सभी दलों की मौजूदगी में अलग तरह की बहस होनी चाहिए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कम समय में एक्सप्रेस-वे बन रहा है। सरकार गांवों के लोगों का विकास कर रही है। यूपी में जिस तरह का एक्सप्रेस वे बन रहा है, वैसा देश में कहीं भी नहीं बनाया गया। सरकार ने दुग्ध उत्पादन बढ़ाने और किसानों को मुआवजा दिलाने समेत कई महत्वपूर्ण कार्य किए हैं। इसके बावजूद यूपी के सांसद सहयोग नहीं कर रहे हैं। बीजेपी के लोगों ने जनता का ध्यान भटकाने के लिए गाय का मुद्दा उठाया है। फिलहाल लोगों को देर से समझ में आया लेकिन कुछ तो समझ आया है।

लखनऊ से अमृतसर के लिए  श्रवण यात्रियों का जत्था रवाना

  • धर्मार्थ कार्य मंत्री ने चारबाग में यात्रियों की ट्रेन को दिखाई हरी झंडी


4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से श्रवण यात्रियों का अगला जत्था आज लखनऊ से अमृतसर के लिए भेज दिया गया। प्रदेश के धर्मार्थ कार्य मंत्री विजय कुमार मिश्रा और कारागार मंत्री रामू वालिया ने श्रवण यात्रियों को टिकट बांटा और ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस जत्थे में शामिल यात्री 8 अगस्त से 11 अगस्त तक यात्रा दर्शन करेंगे।
प्रमुख सचिव धर्मार्थ कार्य विभाग नवनीत सहगल ने बताया कि समाजवादी श्रवण यात्रा योजना के तहत प्रदेश के बुजुर्ग लोगों को नि:शुल्क यात्रा का अवसर दिया जा रहा है। इसी क्रम में आज श्रवण यात्रियों का अगला जत्था रवाना किया गया, जिसमें प्रदेश के सभी जिलों से कुल मिलाकर 700 यात्रियों को श्रवण यात्रा पर भेजा गया है। इन यात्रियों को ट्रेन के माध्यम से लखनऊ से अमृतसर भेजा जा रहा है। ये यात्रा तीन दिन की यात्रा पर रहेंगे। यात्रियों को गृह जनपद से लखनऊ तक आने-जाने की नि:शुल्क सुविधा दी गई है।

Pin It