लखनऊ में दूसरे दिन भी डकैती, बरेली में एक ही परिवार के चार लोगों की हत्या

डीजीपी साहब यह क्या हो रहा है…

 

  • बेखौफ बदमाश गैंग रेप और डकैती की वारदातों को दे रहे अंजाम
  • तीन दिनों में अंजाम दी गई कई संगीन वारदातें

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

28-sep-page11लखनऊ। प्रदेश में कानून व्यवस्था पटरी से उतर चुकी है। डीजीपी जावीद अहमद के सारे दावे खोखले साबित हो रहे हैं। सूबे की राजधानी लखनऊ में दो दिनों से लगातार डकैती की वारदातों से लोग सहम गये हैं। वहीं बरेली के इज्जत नगर में प्रापर्टी डीलर समेत परिवार के चार लोगों की धारदार हथियार से काटकर हत्या कर दी गई। अपराधियों के हौसलों के आगे पुलिस पस्त नजर आ रही है। जबकि पुलिस विभाग के अधिकारियों के पास सीयूजी नंबर उठाने तक की फुरसत नहीं है। ऐसे में आम आदमी की सुरक्षा भगवान भरोसे ही है।
उत्तर प्रदेश में जावीद अहमद ने डीजीपी की कमान थामते ही कानून व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त और अपराधियों पर शिकंजा कसने का दावा किया था लेकिन उनके सारे दावे खोखले साबित हुए हैं। सूबे की पुलिस अपराधियों और अपराध के आंकड़ों पर अंकुश लगाने में नाकाम साबित हुई है। प्रदेश की राजधानी लखनऊ में रहने वाले लोग भी सुरक्षित नहीं हैं। यहां दो दिनों से लगातार डकैती की वारदातें हुई हैं। सोमवार की रात पारा थाना क्षेत्र में दर्जन भर बदमाशों ने एक परिवार को बंधक बनाकर मां-बाप के सामने बेटी के साथ रेप किया। इसके बाद घर में लूट-पाट कर फरार हो गये। उसके बाद बीती रात काकोरी के बाज नगर में डकैतों ने राजाराम के परिवार पर धावा बोला। बदमाशों ने परिवार को बंधक बनाकर बुरी तरह पीटा और घर में रखा नकदी, जेवर और अन्य सामान लेकर फरार हो गये। इसी तरह बरेली के इज्जत नगर में प्रापर्टी डीलर नरेश सेठी और उसके परिवार के तीन अन्य लोगों की धारदार हथियार के काटकर हत्या कर दी गई। इस तरह अपराधी बेखौफ होकर दिल दहला देने वाली वारदातों को अंजाम दे रहे हैं लेकिन सूबे की पुलिस आंकड़ों की बाजीगरी के खेल में व्यस्त है। थानों में रिपोर्ट दर्ज करने में भी हीलाहवाली की जाती है।

यूपी में दिन पर दिन बढ़ रहा क्राइम का ग्राफ

देश में बढ़ते अपराधों की सूची में यूपी का स्थान सबसे ऊपर पहुंच चुका है। अपराधी बेखौफ होकर लूट, डकैती, रेप और हत्या जैसी वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। आंकड़ों के मुताबिक यूपी में हर दिन 24 रेप, 21 अटेम्ट टू रेप, 13 मर्डर, 33 किडनैपिंग, 19 दंगे और 136 चोरियां मिलाकर एक दिन में कुल 7650 क्राइम की घटनाएं होती हैं। ये हाल तब है, जब कि यूपी पुलिस आए दिन कई अपराधों के मामलों में रिपोर्ट तक दर्ज नहीं करती है। खुद डीजीपी ने भी ये माना है। पिछले 4 साल में अखिलेश सरकार में यूपी रेप, मर्डर, दंगे, किडनैपिंग और दहेज हत्या को लेकर देश में नंबर 1 बन गया है। पिछले शासन में हर दिन यूपी में एवरेज 5783 क्राइम की घटनाएं हो रही थीं, वहीं चार साल में ये आंकड़े बढक़र 6433 पहुंच गए है।

अपराधियों के डर से छुट्टी ले रहे पुलिस कर्मी

ताबड़तोड़ हत्याओं को अंजाम देकर आतंक का पर्याय बन चुका पचास हजार का इनामी मोनू उर्फ अमित जाट पुलिस के लिए मुसीबत बन चुका है। उसकी वजह से पुलिस वाले छुट्टी की अप्लीकेशन दे कर बचने की फिराक में जुटे हैं। रंगदारी के लिए 12 हत्याओं को अंजाम देने वाले इस शातिर अपराधी के खौफ से कई पुलिस वालों ने तो छुट्टी की अर्जी तक दे डाली है। आलम यह है कि मेरठ और बागपत में अघोषित कफ्र्यू लगा हुआ है। लोग आठ बजे के बाद घर से बाहर नहीं निकल रहे और बाजार भी बंद हो जाते हैं। पुलिस भी उससे इतनी डरी हुई है कि उसने माइक से अपील की है कि लोग घरों में ही रहें।

लखनऊ में दूसरे दिन भी…

उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था की खुलेआम अपराधी धज्जियां उड़ा रहे हैं। एक के बाद एक जघन्य अपराधों को अंजाम देकर अपराधियों ने पुलिस को खुली चुनौती दे दी है। लेकिन अपराधियों के आगे पुलिस अब पूरी तरह बेबस हो चुकी है। इसके चलते अपराधी बेखौफ होकर खुलेआम वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। कुछ आपराधिक वारदातें ही पुलिस की कार्यशैली को बता रही हैं।
८02 सितम्बर इंदिरानगर थाना क्षेत्र में दीवान रूद्र प्रताप सिंह की बेटी से एक पुलिसकर्मी ने नशे ही हालात में किया दुष्कर्म का प्रयास।

03 सितम्बर ठाकुरगंज थाना क्षेत्र निवासी शानू की काकोरी में हत्या कर दी गयी।
05 सितम्बर आशियाना थाना क्षेत्र में कानपुर निवासी युवती से नौकरी के नाम पर रेप का प्रयास।
07 सितम्बर जिला हरदोई के मल्लावां थाना क्षेत्र स्थित नया गांव में निवासी महिला से रेप।
10 सितम्बर अलीगंज थाना क्षेत्र में विमलेश वर्मा (29) की हत्या कर फेंका गया शव। ८14 सितम्बर विकासनगर थाना क्षेत्र में कृष्णा (9) की संदिग्ध मौत, परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप।
14 गाजीपुर थाना क्षेत्र निवासी अंकिता सोनी से को घर में बंधक बनाकर लूट की वारदात को दिया गया अंजाम।
15 सितम्बर हज़रतगंज थाना क्षेत्र में शहीद भगत कॉलोनी निवासी महिला से दुष्कर्म, पीडि़त के भाई की जुलाई 2016 में हुई थी हत्या।
18 सितम्बर गोमती नगर में व्यापारी के गला चाकू से गोदकर निर्मम हत्या।
23 सितम्बर आशियाना थाना क्षेत्र में नौकरानी के साथ मकान मालिक के बेटे ने किया रेप।
26 सितम्बर पारा थाना क्षेत्र में नाबालिग बच्ची से गैंग रेप।
26 सितम्बर पारा में युवती से गैंग रेप।
26 सितम्बर पारा में देर रात आशाराम के डकैती के बाद उनकी नाबालिक बेटी से सामूहिक बलात्कार।
27 सितम्बर काकोरी में राजाराम के परिवार को बंधक बनाकर डकैती।

जनता दरबार में सीएम ने सुनी फरियादें

  • शिकायतों का निस्तारण करने के लिए अधिकारियों को दिए निर्देश

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव आज बिल्कुल ही अलग अंदाज में नजर आये। उन्होंने अपने आवास 5केडी पर आयोजित जनता दरबार में लोगों के बीच जाकर समस्याएं सुनीं। फरियादियों की शिकायतों को गंभीरता से लिया और संबंधित विभागों के अधिकारियों को जन समस्याओं का समय से निस्तारण करने के आदेश दिए।
जनता दरबार समाप्त होने के बाद सीएम ने साइकिल यात्रा को भी हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस साइकिल यात्रा में 15 सदस्यीय टीम असम के कोकराझार से जम्मू कश्मीर तक की यात्रा के लिए निकली है। सीएम ने साइकिल यात्रा में शामिल
सभी सदस्यों को यात्रा के लिए बधाई और शुभकामनाएं दीं।

सिविल कोर्ट में बम की सूचना, हडक़ंप

  • बम स्क्वायड की टीम सघन तलाशी अभियान में जुटी
  • 24 घंटे में दूसरी बार मिली बम की सूचना

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी के सिविल कोर्ट में बम रखे जाने की सूचना मिली है। इससे कोर्ट परिसर में हडक़ंप मच गया। इसकी जानकारी होते ही पुलिस महकमे के आला अधिकारी और बम स्क्वायड की टीम मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने एहतियातन पूरी बिल्डिंग को खाली करवा दिया है। बम स्क्वायड की टीम कोर्ट परिसर की सघन तलाशी में जुटी है।
पुलिस को राजधानी में 24 घंटे के अंदर दो अलग-अलग जगहों पर बम रखे जाने की सूचना मिल चुकी है। कल शाम आलमबाग के फिनिक्स मॉल में बम की सूचना मिली थी। इस सूचना के बाद पुलिस ने शॉपिंग माल को चारों तरफ से घेर लिया और मॉल के अंदर से सब लोगों को बाहर निकलवाकर करीब दो घंटे तक सघन तलाशी अभियान चलाया लेकिन कुछ भी नहीं मिला। उसके बाद आज सुबह सिविल कोर्ट में बम रखे होने की सूचना मिली। इस खबर को सुनकर कोर्ट परिसर में जुटे लोगों में हडक़ंप मच गया। वकील अपनी फाइलें समेटकर भागते नजर आये। कोर्ट में बम की सूचना पर पहुंची पुलिस ने आधे घंटे के अंदर पूरा परिसर खाली करवा दिया।

Pin It