लखनऊ: पूर्व विधायक अशोक रावत के बेटे ने रैन बसेरे में सो रहे लोगों पर चढ़ाई कार, चार की मौत

बहुखंडी आवास के सामने हुई घटना
हादसे में आठ लोग बुरी तरह घायल, अस्पताल में चल रहा इलाज
पुलिस ने कार में सवार दोनों युवकों को हिरासत में लिया

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
a1लखनऊ। हजरतगंज थाना क्षेत्र में डालीबाग स्थित बहुखंडी आवास के सामने सपा के पूर्व विधायक अशोक रावत के बेटे आयुष ने रैन बसेरे में सो रहे लोगों पर कार चढ़ा दी। इस हादसे में चार लोगों की मौत हो गई। जबकि आठ लोग बुरी तरह से घायल हो गये। घायलों का अस्पताल में इलाज चल रहा है। वहीं पुलिस ने कार चला रहे आयुष और उसके मित्र निखिल को गिरफ्तार कर लिया है। निखिल के पिता एक बड़े बिजनेसमैन हैं। वहीं डीआईजी प्रवीण कुमार और एसएसपी मंजिल सैनी भी मौके पर पहुंची और लोगों से पूछताछ की।
पुलिस के मुताबिक शनिवार की रात करीब 2 बजे तेज रफ्तार कार ने रैन बसेरे में सो रहे लोगों को रौंद दिया। हादसे में चार लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। हादसे में घायल आठ व्यक्तियों में से तीन को ट्रामा सेंटर और अन्य को सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। गोमतीनगर निवासी आयुष रावत पुत्र अशोक रावत कार चला रहा था। उसके साथ निखिल बगल वाली सीट पर बैठा था। पुलिस के मुताबिक, दोनों युवक नशे में धुत थे। उनके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। वहीं झोपड़ी में सो रहे लोगों का यह भी कहना है कि हादसे में करीब 15 लोगों की मौत हो गई है। लेकिन पुलिस मात्र चार लोगों की मौत होने की बात कह रही है। इतना ही नहीं कार में चार लोग और सवार थे। लेकिन पुलिस इस बात से इंकार कर रही है।
जानकारी के मुताबिक, हजरतगंज थाना क्षेत्र स्थित डालीबाग में बहुखंडी आवास के सामने रैन बसेरे में रोजाना 50 से ज्यादा लोग सोते हैं। शनिवार को भी यहां करीब 50 से 55 लोग सो रहे थे। प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो रात करीब दो बजे गन्ना संस्थान की तरफ से आ रही लाल रंग की कार (यूपी-32जीएच-7788) बेकाबू होकर रैन बसेरे में घुस गई। कार रैन बसेरे के दूसरे छोर तक लोगों को रौंदती चली गई और लोहे की पाइप से टकराकर पलट गई। हादसे में दो लोगों के सिर कार के नीचे आकर बुरी तरह कुचल गए, जिनकी पहचान पृथ्वीराज और गोकरन के रूप में हुई। दोनों बहराइच में नानपारा थाना क्षेत्र के मटिहा गांव के हैं। वहीं सिविल अस्पताल में अब्दुल कलाम और एक अन्य व्यक्ति के मौत की पुष्टि की गई है। वहीं घायलों में बुधई, पैरू और मुन्नीलाल की हालत गंभीर बताई जा रही है। जबकि हादसे में मरने वालों और घायल होने वालों में ज्यादातर लोग बहराइच के मटिहा गांव के हैं।

दोनों ही आरोपियों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई-एसएसपी
एसएसपी मंजिल सैनी ने कहा कि डालीबाग स्थित एक निजी संस्था के रैन बसेरे में सो रहे लोगों पर कार चढ़ाने के मामले की पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। इस हादसे में अब तक चार लोगों के मरने की पुष्टि हुई है। पांचवें युवक के मरने की सूचना मिली है। लेकिन अब तक पुलिस की तरफ से उसकी पुष्टि नहीं हो पाई है। वहीं कार चलाने वाले युवक और उसके साथी को गिरफ्तार कर लिया गया है। दोनों युवक नशे में थे और तेज रफ्तार में गाड़ी चला रहे थे। इसलिए दोनों ही आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जायेगी। वहीं कार में अन्य लोगों के होने की अभी तक कोई जानकारी नहीं मिली है।

नेताजी ने पार्टी कार्यालय पर लगवाया ताला, पहुंचे दिल्ली

फिर लगाई गई शिवपाल यादव की नेम प्लेट, जिसमें दिखाया गया उन्हें कैबिनेट मंत्री

लखनऊ। समाजवादी पार्टी में आंतरिक कलह के बीच मुलायम सिंह यादव पार्टी के चुनाव निशान साइकिल पर दावा ठोंकने के लिए दिल्ली पहुंच चुके हैं। वह कल चुनाव आयोग के सामने चुनाव निशान पर अपना दावा ठोंक सकते हैं। उनके साथ शिवपाल यादव भी हैं। वहीं दिल्ली निकलने से पहले नेताजी के निर्देश पर शिवपाल समर्थकों ने पार्टी कार्यालय के कमरों में ताला लगा दिया और उसकी चाबियां नेताजी अपने साथ ले गये। इतना ही नहीं शिवपाल यादव के कमरे के बाहर पुरानी नेम प्लेट भी लगा दी गई है।
राजनीतिक गलियारे में इस बात की चर्चा है कि अब पार्टी कार्यालय और चुनाव निशान दोनों को लेकर कलह और तेज हो गई है। हालांकि सपा मुखिया मुलायम सिंह ने पार्टी में चल रहे विवाद के सवाल पर मीडिया से कहा कि किसी भी तरह का विवाद नहीं है। सब कुछ ठीक चल रहा है। जबकि अखिलेश खेमे के सपा नेता नरेश अग्रवाल ने पार्टी के 90 प्रतिशत विधायकों का समर्थन अखिलेश के पक्ष में होने और चुनाव निशान पर उनकी पकड़ मजबूत होने की बात कही है। ऐसे में सपा और यादव परिवार में अंदरखाने क्या खिचड़ी पक रही है। इस बात को लेकर पार्टी कार्यकर्ता भी असमंजस में हैं।
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के खेमे के रामगोपाल यादव ने चुनाव आयोग में शनिवार को 205 विधायकों के समर्थन का हलफनामा पेश किया था। उन्होंने फिर दावा ठोंका कि असली समाजवादी पार्टी अखिलेश की अगुवाई वाली है। इसके साथ ही उन्होंने साइकिल चुनाव चिन्ह अखिलेश की अगुवाई वाली पार्टी को देने की मांग भी की है। उन्होंने कहा कि कुल 5731 में 4716 प्रतिनिधियों के हलफनामे भी हम चुनाव आयोग में दायर करेंगे।

Pin It