रोगों से मुक्ति की विधा है योग: राज्यपाल राम नाईक

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

Captureलखनऊ । राज्यपाल राम नाईक ने योगाभ्यास को स्वैच्छिक बताते हुए जनमानस से अपील की है कि 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर विभिन्न सरकारी व गैर सरकारी संगठनों व शिक्षण संस्थाओं द्वारा आयोजित किये जाने वाले योग के कार्यक्रमों में उत्साहपूर्वक भाग लें। योग को अपने जीवन का आवश्यक अंग बनाकर स्वस्थ रहें।
राज्यपाल ने बताया कि 21 जून को वह स्वयं लखनऊ विश्वविद्यालय व सिटी मांटेसरी स्कूल द्वारा आयोजित योग दिवस कार्यक्रमों में शामिल होंगे। उन्होंने कहा कि योग शारीरिक व मानसिक रूप से स्वस्थ रहने और विभिन्न प्रकार के रोगों से मुक्ति पाने की विधा है, जिसका अभ्यास करके व्यक्ति न केवल स्वस्थ रह सकता है, बल्कि कोई रोग हो गया है तो उससे भी मुक्ति पा सकता है। योग का सीधा संबंध शारीरिक स्वास्थ्य से है। हमारे देश की हजारों वर्ष पुरानी योग की विभिन्न विधाओं से जनमानस लाभांवित होता आ रहा है। अमेरिका में भी लगभग साढ़े तीन करोड़ लोग नियमित रूप से योग का अभ्यास कर रहे हैं। योग का महत्व देखते हुए सरकारी संस्थानों, शिक्षण संस्थाओं तथा स्वैच्छिक संगठनों द्वारा योग पर संभाषण, प्रशिक्षण व नाटक सहित अन्य माध्यमों से जनमानस को अवगत कराते हुए इसे अपनाने के लिए प्रयास किया जाना उचित होगा। इससे लोगों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में भी सहयोग मिलेगा।

Pin It