रिन्यूवेबल एनर्जी विषय में मिलेगी छात्रवृत्ति

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय में 2007-08 से चल रहे एम.एससी. रिन्यूवेबल एनर्जी का पाठ्यक्रम चलाया जा रहा है। इस सत्र से भारत सरकार के नवीन एंव नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय ने प्रयोगशालाओं एवं पुस्तकालय के विस्तार के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की है। साथ ही इस पाठ्यक्रम में प्रवेश लेने वाले छात्रों को उनकी मेरिट के आधार पर छात्रवृत्ति प्रदान की जायेगी।

विश्वविद्यालय के नवीन परिसर में यह पाठ्यक्रम 2007-08 से चलाया जा रहा था। इस पाठ्यक्रम में 25 सीटें हैं जिसमें 5 अतिरिक्त सीटें विभिन्न विभागों व संस्थानों के छात्रों के लिए संरक्षित की गयी हैं। अब तक इस पाठ्यक्रम को कोई वित्तीय सहायता नहीं मिली थी। इस सत्र के आरम्भ में ही भारत सरकार के नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय ने इस विषय के विस्तार के लिए प्रयोगशालाओं एवं पुस्तकालय के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की है। साथ ही ऊर्जा मंत्रालय द्वारा इस पाठ्यक्रम में 10 छात्रों को छात्रवृत्ति के रूप में 4,000 प्रतिमाह दिया जायेगा। छात्रवृत्ति प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों को स्नातक की मेरिट के आधार पर प्रदान की जाएगी। पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए स्नातक में भौतिक विषय अथवा बी.ई., बीटेक में उत्तीण होना अनिवार्य है। विषय में उत्तीर्ण होने वाले विद्यार्थियों को रिन्यूवेबल एनर्जी की कम्पनियों में नौकरी के वृहद अवसर हैं। साथ ही वे अग्रेतर शिक्षण के क्षेत्र में एमटेक व पीएचडी में प्रवेश ले सकते हैं। रिन्यूवेबल एनर्जी की कम्पनियों की जरुरतों को ध्यान में रखते हुए इस पाठ्यक्रम की संरचना की गई। रिन्यूवेबल एनर्जी की कम्पनियों में इन्टर्नशिप के लिए भी भेजा जाता है।

Pin It