रामनगरी अयोध्या की सूरत बदलने की तैयारी, विकास को लगे पंख

रामनगरी अयोध्या की सूरत बदलने की तैयारी, विकास को लगे पंख

देश का प्रमुख धार्मिक पर्यटन केंद्र बनने की कवायद शुरू
राममंदिर के समानांतर रामनगरी को विकसित करने का खाका तैयार
251 मीटर श्रीराम की प्रतिमा बढ़ाएगी आकर्षण
आधुनिक सुविधाओं से लैस बस अड्डा बनाने का काम लगभग पूरा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। श्रीराम जन्मभूमि विवाद पर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद से रामनगरी अयोध्या के विकास को पंख लग गए हैं। योगी सरकार की मंशा इसे धर्मिक पर्यटन का प्रमुख स्थल बनाने की है। लिहाजा यूपी में भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार बनने के बाद से ही पिछले तीन वर्षों में सीएम योगी आदित्यनाथ न केवल दर्जनों बार अयोध्या गए बल्कि वहां कई भव्य कार्यक्रम भी आयोजित कराए।
केंद्र की मोदी और यूपी की योगी सरकार नई अयोध्या का सपना साकार करने में जुट गई है। सरकार की मंशा इसे धर्मिक पर्यटन का प्रमुख स्थल बनाने की है। अगले तीन वर्षों के भीतर नई अयोध्या न सिर्फ धार्मिक केंद्र होगी बल्कि पर्यटन हब के रूप में भी विकसित होगी। यहां विश्वस्तरीय सुविधाओं से लैस कई योजनाओं पर काम शुरू हो चुका है। योजना है कि राममंदिर के समानांतर रामनगरी भी विकसित की जाए। अयोध्या में राममंदिर के साथ अयोध्या को विकसित करने का खाका तैयार करने का काम हो रहा है। कुछ योजनाएं जहां तेजी से चल रही हैं और पूरी होने की ओर हैं, वहीं कुछ नई योजनाओं से अयोध्या की सूरत बदलने की कवायद तेज हो गई है। अयोध्या में श्रीराममंदिर निर्माण के साथ-साथ 251 मीटर प्रभु श्रीराम की प्रतिमा भी स्थापित करने की तैयारी हो रही है। इसके लिए सरकार ने 100 करोड़ का बजट पहले ही स्वीकृत कर दिया है। पर्यटन अधिकारी आरके यादव ने बताया कि श्रीराम की प्रतिमा के लिए मांझा बरहटा की जमीन का चयन लगभग फाइनल है। शीघ्र ही मूर्ति स्थापना का काम शुरू होगा। उन्होंने बताया कि मूर्ति के बेसमेंट में एक भव्य म्यूजियम भी स्थापित किया जाएगा। इस म्यूजियम में भगवान विष्णु के सभी अवतारों की जानकारी होगी। इसके अलावा अयोध्या हाईवे पर आधुनिक बस अड्डे का निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है। इसका 70 प्रतिशत काम पूरा भी हो चुका है। बस अड्डे के निर्माण का कार्य सीएम योगी आदित्यनाथ की महत्वाकांक्षी योजनाओं में शामिल है। पांच एकड़ में बन रहे इस बस अड्डे में एक साथ 44 बसें खड़ी हो सकती हैं। इसके साथ ही आधुनिक सुविधाओं से लैस टिकट घर, विश्रामालय जैसे भी निर्माण कार्य लगभग पूरा होने वाले हैं।

तराशे पत्थरों की सफाई

श्रीरामजन्मभूमि न्यास कार्यशाला में तराशे गए पत्थरों की सफाई का काम तेज हो गया है। श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने मंदिर निर्माण को लेकर तकनीकी रूप से तैयारी लगभग पूरी कर ली है। अब दिल्ली की कंस्ट्रक्शन कंपनी केएलए को कार्यशाला में रखे पत्थरों की सफाई का कार्य सौंपा गया है। कंपनी ने कार्य में तेजी लाने के लिए अपनी श्रम शक्ति बढ़ाना शुरू कर दिया है। मंदिर निर्माण कार्यशाला में रखे पत्थरों को साफ करने के लिए कई प्रकार के केमिकल का प्रयोग किया जा रहा है। इनमें कई तरह के रिमूवर प्रयोग में लाए जा रहे हैं। स्टेन, एल्बो सीमेंट, डस्ट रिमूवर और पेंट रिमूवर जैसे केमिकल प्रयोग किए जा रहे हैं। केएलए कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर संजय जेडिया ने बताया कि पत्थरों की सफाई के लिए मुख्य रूप से पानी का प्रयोग किया जा रहा है। इसके बावजूद अगर पत्थर पर जमी डस्ट और काई साफ नहीं होती तो केमिकल का प्रयोग किया जाता है। सभी पत्थरों की सफाई करने में तीन से चार महीने का समय लग सकता है।

संजाने-संवारने का काम तेज

राममंदिर निर्माण शुरू होने के साथ-साथ अयोध्या को संजाने-संवारने का काम भी तेज हो गया है। यही कारण है कि पयर्टन के क्षितिज पर भी अयोध्या नए आयाम स्थापित करने जा रही है। आकर्षक और विश्वस्तरीय सडक़ें, रेलवे स्टेशन, बस अड्डा, सरयू घाटों की भव्यता, भजन संध्या स्थल, रानी हौ पार्क, मल्टीलेवल पार्किंग सहित अन्य योजनाएं रामनगरी की गरिमा को वैश्विक बनाने का काम करेंगी।

पर्यटन हब बनाने की तैयारी

अयोध्या धार्मिक केंद्र होने के साथ-साथ पर्यटन हब भी बने, इसी योजना के तहत पर्यटन विकास की करीब चार सौ करोड़ की योजना पर काम चल रहा है। अयोध्या की सडक़ों को विश्वस्तरीय बनाने की कवायद शुरू हो गई है। सरयू घाटों का विस्तार कर उन्हें भव्यता प्रदान किया जाना है। अयोध्या के पंचकोसी एवं चौदह कोसी परिक्रमा मार्ग को यात्री सुविधाओं से लैस किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *