राज्य के वन व वृक्षावरण क्षेत्रफल में 261 वर्ग किमी की बढ़ोत्तरी

फॉरेस्ट सर्वे ऑफ इण्डिया की २०१५ की रिपोर्ट में आया सामने
‘ग्रीन यूपी-क्लीन यूपी’ कार्यक्रम के माध्यम से वन क्षेत्रफल का हुआ विस्तार

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राज्य के वनावरण में 112 वर्ग किमी और वृक्षावरण में 149 वर्ग किमी क्षेत्रफल की बढ़ोत्तरी हुई है। इस प्रकार प्रदेश का कुल वनावरण एवं वृक्षावरण क्षेत्रफल 261 वर्ग किमी बढ़ा है। इसका प्रमुख कारण वनावरण एवं वृक्षारोपण में हुई बढ़ोत्तरी है। फॉरेस्ट सर्वे ऑफ इण्डिया की 2015 की रिपोर्ट में यह सामने आया है। इसके अनुसार प्रदेश का वर्ष 2013 में वनावरण क्षेत्रफल 14,349 वर्ग किमी एवं वृ़क्षावरण 6,895 वर्ग किमी था, जो वर्ष 2015 में बढक़र क्रमश: 14,461 वर्ग किमी और 7,044 वर्ग किमी हो गया है। इस प्रकार वृक्षावरण एवं वनावरण का कुल क्षेत्रफल वर्ष 2013 में 21,244 वर्ग किमी था व वर्ष 2015 में बढक़र 21,505 वर्ग किमी हो गया है। एकड़ में यह कुल क्षेत्रफल बढ़ोत्तरी 64,494 एकड़ है।
राज्य सरकार के प्रवक्ता ने यह जानकारी देते हुए बताया कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के निर्देशों के क्रम में प्रदेश में ‘ग्रीन यूपी-क्लीन यूपी’ कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है। इसके तहत सभी जनपदों में 50 एकड़ से लेकर 1,000 एकड़ तक के क्षेत्रों का चयन करके वृक्षारोपण कराया गया है और उनकी देखभाल और सुरक्षा की व्यवस्था भी सुनिश्चित की गई है। इसके तहत 10 फीट से लेकर 15 फीट तक की अच्छी गुणवत्ता के पौधों का रोपण किया जा रहा है, जिससे उनके जीवित रहने की सम्भावना प्रबल हो जाती है। पौधों को ग्रिड बनाकर लगाया गया है। बोरिंग, नहरों तथा अन्य साधनों से उनकी सिंचाई की व्यवस्था की गई है। र्खाई एवं तारों के माध्यम से घेरा बनाकर वृक्षारोपण क्षेत्र की सुरक्षा की व्यवस्था की गई है। समय-समय पर वन विभाग के अधिकारियों द्वारा वृक्षारोपण क्षेत्र की निरीक्षण करके खराब हो गए पौधों के स्थान पर नये पौधे लगाया जाना भी सुनिश्चित किया जाता है। वृक्षारोपण कार्यक्रम के तहत पारिजात सहित शीशम, नीम, अमलतास, गुलमोहर, जैकरेण्डा, सिरस, कंजी, आम, छितवन, बरगद, पीपल, पाकड़, मौलश्री, कचनार, इमली, बेल, महुआ आदि के पौधों का रोपण किया गया। लखनऊ के कुकरैल क्षेत्र में एक पारिजात उपवन भी विकसित किया जा रहा है। प्रवक्ता ने बताया कि प्रदेश के 08 जनपदों इटावा, झांसी, मिर्जापुर, सोनभद्र, चित्रकूट, उरई/जालौन, ललितपुर एवं हमीरपुर में 1,000 एकड़ क्षेत्रफल में वृक्षारोपण कराया गया है। प्रदेश के अन्य जनपदों में 50 से 100 एकड़ क्षेत्रफल में वृक्षारोपण कराया गया है। अनेक विशिष्ट व्यक्तियों ने वृक्षारोपण कार्यक्रम में भाग लिया है।

Pin It