राजधानी में महीने भर के अंदर दो पुल धंसे

  • सूचना मिलने पर प्रमुख सचिव दीपक सिंघल पहुंचे मौके पर, दिए जांच के आदेश
  • पॉलीटेक्निक ओवर ब्रिज के बाद गोमती नदी पर बना पुल धंसा

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में बने पुल की गुणवत्ता सवालों के घेरे में है। महीने भर के अंदर दो पुल धंसने का मामला सामने आ चुका है। इससे पुल की गुणवत्ता और पुल बनाने वाले विभागों और एजेंसियों की विश्वसनीयता पर भी सवाल उठने लगे हैं। फिलहाल पुल की मरम्मत का कार्य चल रहा है। प्रमुख सचिव सिंचाई दीपक सिंघल ने खुद मौके का मुआयना किया और पुल की जल्द से जल्द मरम्मत करवाने का आदेश दिया। इसके साथ ही एक जांच कमेटी गठित कर पुल धंसने के कारणों का पता लगाने का निर्देश दिया है।
समता मूलक चौराहे से 1090 चौराहे से बीच सडक़ को जोडऩे वाला गोमती पुल धंस गया। इस पुल में करीब करीब तीन फिट का एरिया नीचे धंस गया, जिसमें से देखने पर पुल के नीचे का नजारा साफ नजर आ रहा था। इस घटना से करीब चार-पांच घंटे तक समतामूलक चौराहे से लेकर पॉलिटेक्निक तक भयंकर जाम लग गया। जिलाधिकारी और एसएसपी और एनएच के अधिकारी भी मौके पर पहुंच गये। तत्काल रूट डायवर्जन कर यातायात व्यवस्था को सामान्य करवाने का प्रयास किया गया। इसके साथ ही पुल को जल्द से जल्द दुरुस्त करने की कोशिश की जा रही है लेकिन पुल की मरम्मत का कार्य आज शाम तक पूरा होने की उम्मीद है।
गोमती नदी पर धंसे पुल की जानकारी होते ही कैबिनेट मंत्री शिवपाल यादव ने तत्काल सभी संबंधित विभागों के अधिकारियों की बैठक बुलाई। इसके साथ ही पुल धंसने की जांच करवाने और रिपोर्ट के अनुसार दोषियों के खिलाफ कार्रवाई का निर्देश दिया है। गौरतलब है कि गोमती नदी पर बने पुल का निर्माण 3 जनवरी 2007 को हुआ था। इसका उद्घाटन लोक निर्माण मंत्री शिवपाल यादव ने किया था। इसेे उत्तर प्रदेश राज्य सेतु निगम ने बनाकर तैयार किया था। इसके कुछ ही दिनों पहले पॉलिटेक्निक चौराहे पर बना ओवरब्रिज भी धंस गया था। एक ही महीने में यह दूसरा मामला है। पॉलिटेक्निक पर धंसे पुल में जांच रिपोर्ट अब तक नहीं आ पाई है। इस मामले में डीएम ने सभी संबंधित विभागों को रिमाइंडर भेजकर जल्द से जल्द रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया है। इसी प्रकार गोमती नदी पर बना पुल धंसने और उसकी वजह की जांच करवाई जा रही है। इसमें एक्सपर्ट्स की राय भी ली जायेगी। फिलहाल जिस ठेकेदार की लापरवाही से घटना हुई है, उस पर एक्शन लिया जाएगा। पुल की मरम्मत का काम पूरा होने तक ट्रैफिक डायवर्ट किया गया है।

Pin It