राजधानी में पुलिस पस्त, अपराधी मस्त

  • संगीन वारदातों का खुलासा करने में असफल रहीं कप्तान
  • अपराधियों ने पारा, काकोरी, बीकेटी व निगोहां में दिया घटनाओं को अंजाम

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
captureलखनऊ। राजधानी में पुलिस पस्त और अपराधी मस्त हैं। बेखौफ अपराधियों ने बीते दिनों पारा, काकोरी, बीकेटी और निगोहां में डकैती, रेप व लूट जैसी संगीन वारदातों को अंजाम दिया। कई दिन बीतने के बाद भी एसएसपी मंजिल सैनी इन वारदातों का खुलासा नहीं कर सकी हैं। वहीं, बेलगाम अपराधी एक के बाद एक संगीन वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। इससे लोगों में दहशत का माहौल हैं। इन अपराधियों के सामने पुलिस भी बेबस नजर आ रही है।
राजधानी में बदमाशों ने महज एक सप्ताह के भीतर आधा दर्जन लूट, डकैती और रेप जैसे संगीन वारदातों को अंजाम देकर पुलिस को खुली चुनौती दी है। कई दिन बीतने के बाद भी पुलिस अभी तक न तो किसी नतीजे पर पहुची है और न ही किसी घटना का खुलासा कर सकी है। बीते पारा थाना क्षेत्र स्थित गढ़ी पतौरा गांव निवासी नरेश काल्पनिक नाम अपनी पत्नी व तीन बच्चों के साथ रहता है। उसके घर बीते 26 सितम्बर की देर रात करीब आधा दर्जन से अधिक असलाहधारी डकैतों ने न सिर्फ डकैती की वारदात को अंजाम दिया बल्कि लूट-पाट के बाद बदमाशों ने पीडि़त की नाबालिक बेटी (12) के साथ सामूहिक बलात्कार भी किया था। लूट पाट और दुष्कर्म का विरोध करने पर डकैतों ने असलहे की बट से मारकर उसे घायल कर दिया और मौके से फरार हो गए थे। पीडि़त ने इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना पर पुलिस के आलाधिकारी, फिंगर प्रिंट्स दास्ता व डॉग स्क्वॉड टीम मौके पर पहुंची। इसके बाद जांच-पड़ताल शुरू की गयी। डकैती और दुष्कर्म जैसी संगीन वारदात का एसएसपी ने संज्ञान लिया था। वहीं काकोरी थाना क्षेत्र स्थित बाजनगर निवासी किसान राजाराम अपने परिवार के साथ रहते हैं। पीडि़त ने बताया वह बीते 27 सितम्बर की रात अपने घर में सो रहा था। उसका पुत्र दयाराम और उनकी पत्नी लक्ष्मी बरामदे में सो रही थी। उसका दूसरा पुत्र शियाराम भी सो रहा था। रात करीब दो बजे एक दर्जन असलाधारी बदमाशों ने उसके घर धावा बोल दिया। अचानक से घुसे बदमाशों ने पहले राजाराम के कमरे की कुंडी बाहर से बन्द कर दी और दोनों भाइयों पर लोहे की रॉड से हमला कर दिया। दोनों लहूलुहान हो गए तो बदमाशों ने लक्ष्मी से बक्से की चाभी मांगी। विरोध करने पर उसे पीटा और चाभी लेकर ढाई लाख रुपये के जेवरात लूट लिए। उसके जेवर भी उतरवा लिया और फायरिंग करते हुए भाग गए। राजधानी में एक सप्ताह में घटी इन ताबड़तोड़ घटनाओं के बावजूद खुद हो हाईटेक बताने वाली लखनऊ पुलिस बदमाशों तक नहीं पहुंच पा रही है, नतीजतन लोग यहां रोज जैसी संगीन वारदातों का शिकार होना पड़ रहा है। लगता है अपराधियों के आगे पुलिस पूरी तरह बेबस है।

कठवारा गांव में कच्छा-बनियान गिरोह ने बोला था धावा

बीकेटी थाना क्षेत्र के कठवारा स्थित गांव में किसान मथुरा के घर 28 सितम्बर की देर रात एक दर्जन कच्छा बनियान गिरोह के हथियारबंद बदमाशों ने धावा बोला था। पीडि़त ने बताया, बदमाश उसके घर की कुंडी खोल घर में दाखिल हुए। उस समय कुछ लोग छत पर सो रहे थे कुछ लोग नीचे। बदमाशों ने स्प्रे का प्रयोग कर सभी को बेहोश कर दिया था और एक लाख की नगदी और लाखों के जेवरात सहित घरेलू सामान लूट ले गए। चौथी घटना निगोहां थाना क्षेत्र के नारायण खेड़ा गांव की है। जहां रहने वाले किसान गिरधारी के घर बदमाशों ने धावा बोलकर लूट की वारदात को अंजाम दिया। पीडि़त जब अपने बेटे के साथ घर के बाहर सो रहा था। रात करीब तीन बजे आधा दर्जन नकाबपोश बदमाशों ने धावा बोलकर सभी को बंधक बना लिया और पीटने लगे। लाखों के जेवरात और 20 हजार नगदी लूट ले गए। ग्रामीणों के अनुसार डकैत चार पहिया वाहन से आये थे।

Pin It