राजधानी में अवैध होटलों के खिलाफ होगी कार्रवाई

  • स्टार कैटेगरी के आधार पर किया जायेगा होटलों का निर्धारण

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी में अवैध रूप से बिना पंजीकरण के हजारों होटल चल रहे हैं। जिला प्रशासन ने ऐसे सभी होटलों की सूची तैयार करवाने का काम शुरू कर दिया है। इसमें उत्तर प्रदेश होटल एसोसिएशन की मदद भी ली जा रही है। जो जल्द से जल्द अवैध होटलों की लिस्ट तैयार कर प्रशासन को सौंपने के काम में जुट गया है।
जिले में अनुमानित रूप से लगभग ढाई से तीन हजार होटल हैं। इनमें मात्र 300 होटल ही पंजीकृत हैं। इसके अलावा शहर में अवैध रुप से हजारों होटल चल रहे हैं। जिनमें ठहरने वाले यात्रियों से मनमाना किराया वसूल किया जाता है। लोकलुभावनी सुविधाओं का झांसा देकर लोगों से मोटा सुविधा शुल्क वसूला जाता है। जबकि शुल्क के अनुरूप सुविधाएं बिल्कुल भी नहीं मिलती हैं। इससे राजधानी में पर्यटन के मकसद से आने वाले लोगों से बीच नवाबों के शहर की साख को नुकसान भी पहुंचता है। इसलिए जिला प्रशासन और उत्तर प्रदेश होटल एसोसिएशन ने शहर के सभी अवैध होटलों की सूची तैयार करने का निर्णय लिया है। यह सूची तैयार होने के बाद अपंजीकृत होटलों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
इस संबंध में एडीएम पूर्वी निधि श्रीवास्तव ने शुक्रवार को होटल एसोसिएशन के पदाधिकारियों के साथ बैठक की थी। जिसमें अवैध होटलों की सूची तैयार करने और अलग-अलग कैटेगरी के होटलों का चार्ट तैयार करने का निर्णय लिया गया। शहर में पहली बार होटलों की अलग-अलग कैटेगरी के अनुसार लिस्ट तैयार होगी। इसमें 5 स्टार, 4 स्टार, 3 स्टार और 1 स्टार की अलग-अलग सूची तैयार की जायेगी। इसके बाद लिस्ट में शामिल होटलों को पंजीकरण का मौका दिया जायेगा। यदि तब भी किसी ने पंजीकरण नहीं करवाया, तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जायेगी। इस मामले में होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष एसके जायसवाल ने कहा कि शहर में अलग-अलग कैटेगरी के होटलों की सूची तैयार करने का काम शुरू हो चुकी है। वह जल्द ही होटलों की सूची प्रशासन को उपलब्ध करा देंगे।

Pin It