राजधानी में अनियंत्रित डंपर ने दो मजदूरों को रौंदा, एक महिला घायल

राजधानी में अनियंत्रित डंपर ने दो मजदूरों को रौंदा, एक महिला घायल

  • गोसाईगंज के कबीरपुर गांव की घटना
  • डंपर चालक सहित दो अन्य मौके से फरार

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। गोसाईगंज के कबीरपुर में तेज रफ्तार से आ रहे एक डंपर ने सडक़ किनारे मिट्टी ढो रहे दो मजदूरों को रौंद दिया। मौके पर ही दोनों की मौत हो गई। अनियंत्रित डंपर एक मकान में जा घुसा, जिससे मकान के बाहर बरामदे में सो रही एक महिला भी घायल हो गई। डंपर चालक सहित दो अन्य मौके से फरार है। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। बताया जा रहा है हादसा ड्राईवर को झपकी आने से हुआ।
पुलिस के मुताबिक कबीरपुर गांव के रहने वाले इशाक अपना मकान बनवा रहे थे। उन्होंने मकान की नींव भरने के लिए मिट्टी मंगाई थी। वाहन अंदर न आ पाने से उन्होंने मिट्टी हाईवे पर ही गिरवा दी। मिट्टी ढुलाई के लिए इशाक ने गोसाईगंज के सिकन्दरपुर अमोलिया गांव के रहने अपने रिश्तेदार के बेटों मेराज (15), रमजान (15) और जावेद (17) को देर रात बुलाया था। तीनों मिट्टी ठेलिया से मिट्टी ढोने का काम कर रहे थे। इस बीच गोसाईगंज से खुर्दही की ओर मिट्टी लाद कर जा रहे डेंपर ने सडक़ किनारे ठेलिया में मिट्टी भर रहे दो लोग मेराज और रमजान को रौंद दिया। जावेद मौके से जान बचाकर भागा इसलिए बच गया। इसके बाद अनियंत्रित डंपर सडक़ किनारे केशन गौतम के मकान में घुस गया। इससे मकान के बाहर बरामदे में सो रही उनकी पत्नी सरस्वती (60) भी उसकी चपेट में आने से घायल हो गई। घटना के समय साथ में काम कर रहे प्रत्यक्षदर्शी जावेद ने बताया हादसे के बाद डंपर चालक व दो अन्य मौके से फरार हो गए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इधर पीडि़त परिवार न्याय की गुहार लगाने के लिए घटना की जानकारी लेकर थाने पहुंचा। उनका आरोप है कि थाने में उनकी सुनवाई नहीं हुई। पीडि़त जावेद ने बताया कि घटना में उसे भी चोट आई हैं। पुलिस ने इलाज कराने की बजाय उसे भगा दिया। मामले में डीसीपी दक्षिणी रईस अख्तर को इसकी शिकायत की गई तो उन्होंने प्रभारी निरीक्षक गोसाईगंज को फटकार लगाई। इसके बाद पुलिस ने घायल जावेद का इलाज कराने की बात कही।

मामला दबाने के लिए डंपर मालिक पहुंचा थाने

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि गाड़ी का नंबर प्लेट गायब था। आरोप है कि घटना के बाद डंपर मालिक थाने पहुंच गया और कार्रवाई न करने की बात कही। इस मामले में जब पुलिस से बात की गई तो थानाधिकारी धीरेंद्र प्रताप ने कहा यह आरोप बेबुनियाद है। झूठा है। पुलिस जांच कर रही है। चालक की तलाश की जा रही है।

समाजवादी नेता रहे बेनी प्रसाद वर्मा के बेटे की कोरोना संक्रमण से मौत

  • किडनी की बीमारी से ग्रसित थे, दिल्ली में चल रहा था इलाज

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। समाजवादी पार्टी के दिग्गज नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री रहे दिवंगत बेनी प्रसाद वर्मा के बड़े बेटे की आज दिल्ली में कोरोना संक्रमण से मौत हो गई। दिनेश वर्मा का इलाज एस्कॉर्ट हॉस्पिटल में चल रहा था। दिनेश वर्मा की मौत से सपाइयों में मातम पसरा हुआ है।
दिनेश वर्मा किडनी की बीमारी से भी ग्रसित थे। पिछले दिनों कोरोना संक्रमण की पुष्टि होने के बाद उन्हें लखनऊ के केजीएमयू में एडमिट कराया गया था। जहां से ठीक होकर वे डिस्चार्ज भी हो गए थे। इसके बाद वे जब किडनी की रेगुलर जांच के लिए दिल्ली के एस्कॉर्ट हॉस्पिटल पहुंचे तो उनका फिर से चेकअप किया गया, जिसमें वे एक बार फिर कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। दिनेश वर्मा भंडारण निगम में बाबू के पद पर कार्यरत थे और किडनी और लिवर की समस्या के चलते लंबे समय से उनका इलाज चल रहा था। 2007 में उनका किडनी ट्रांसप्लांट भी हुआ था। उनकी माता ने उन्हें किडनी डोनेट की थी। लॉकडाउन के दौरान 27 मार्च को ही बेनी प्रसाद वर्मा की भी मौत लंबी बीमारी के बाद हो गई थी।

संदेसरा घोटाला: कांग्रेस नेता अहमद पटेल से फिर पूछताछ

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल से संदेसरा घोटाले मामले में पूछताछ के लिए एक बार फिर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की टीम उनके दिल्ली स्थित आवास पर पहुंची है। बता दें कि कुछ दिन पहले भी ईडी की टीम ने पटेल के 23 मदर टेरेसा क्रीसेंट स्थित निवास पर करीब 8 घंटे पूछताछ की थी। तब पटेल ने कहा था कि मोदी और अमित शाह के मेहमान घर आए थे। दरअसल ईडी ने इससे पहले दो बार पटेल को पूछताछ के लिए बुलाया था लेकिन, उनका कहना था कि वह सीनियर सिटीजन हैं और कोविड-19 गाइडलाइन के कारण पूछताछ के लिए नहीं आ सकते हैं। इसके बाद एजेंसी ने अपनी एक टीम को पूछताछ के लिए उनके घर भेजा था।
पिछली पूछताछ में अधिकारियों ने बताया कि इस केंद्रीय जांच एजेंसी के कुछ अधिकारियों के साथ तीन सदस्यीय दल मध्य दिल्ली के लुटियंस जोन में 23, मदर टेरेसा क्रीसेंट स्थित पटेल के आवास पर सुबह करीब साढ़े 11 बजे पहुंचा और पूछताछ के बाद रात नौ बजे उनके आवास से निकला। अधिकारियों ने बताया कि आठ घंटे की पूछताछ के दौरान पटेल का बयान धनशोधन निरोधक कानून (पीएमएलए) के तहत दर्ज किया गया है और संदेसरा बंधुओं के साथ उनके कथित संबंध जांच के दायरे में हैं। पूछताछ के दौरान अहमद पटेल मास्क पहने रहें।

राज्यपाल लालजी टंडन फिर वेंटिलेटर पर

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। मेदांता अस्पताल में भर्ती मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन को बाई-पैप मशीन से हटाकर फिर वेंटिलेटर पर शिफ्ट किया गया। मसल्स में कमजोरी के चलते अभी उनको सांस लेने में दिक्कत हो रही है।
टंडन को 11 जून को स्वास्थ्य खराब होने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। 13 जून को पेट में रक्तस्राव होने पर उनका ऑपरेशन किया गया। इसके बाद से वह लगातार क्रिटिकल केयर वेंटिलेटर पर थे। बीच-बीच में कुछ देर के लिए वेंटिलेटर हटाया गया। 27 जून को उन्हें प्रेशर में ऑक्सीजन देने के लिए बाई-पैप मशीन पर रखा गया। मेदांता अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर डॉ. राकेश कपूर के मुताबिक राज्यपाल को कोमोर्बिटीज और न्यूरो मस्कुलर की समस्या है। सांस लेने में दिक्कत हो रही है। ऐसे में फिर उन्हें वेंटिलेटर पर शिफ्ट कर दिया गया है।

यूपी में न्यूरो सर्जरी स्थापित करने वाले डॉ. छाबड़ा का निधन

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में न्यूरो सर्जरी को स्थापित करने वाले और पीजीआई की नींव से जुड़े जाने माने न्यूरो सर्जन डॉ. डीके छाबड़ा (80) ने मंगलवार सुबह अंतिम सांस ली।
वह कई दिन से पीजीआई के क्रिटिकल केयर मेडिसिन (सीसीएम) में भर्ती थे। सिर के छोटे और बड़े हर प्रकार के ट्यूमर का ऑपरेशन कर बहुत से लोगों को नया जीवन देने वाले डॉ. छाबड़ा जिंदगी के अंतिम पड़ाव में वह खुद ट्यूमर की चपेट में आ गए। इसकी वजह से उनकी मौत हो गई। डॉ. छाबड़ा वर्ष 1986 से 2003 तक पीजीआई में रहे। इस दौरान पीजीआई में न्यूरो सर्जरी विभाग स्थापित करने के साथ ही संस्थान के डीन और कई बार कार्यवाहक निदेशक भी रहे। यहां से सेवानिवृत्त होने के बाद वे विवेकानंद अस्पताल में सेवाएं दे रहे थे। डॉ. छाबड़ा के 300 से अधिक शोध पत्र, बुक चैप्टर और पुस्तकें हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *