राजधानी के अस्पताल नहीं कर रहे कोर्ट के आदेश का पालन

राजकीय बालगृह व महिला शरणालयों मेें नहीं लगाये जा रहे हैं स्वास्थ्य शिविर

सीएमओ ने सभी प्रमुख अस्पतालों को फिर से जारी किया निर्देश
8 मई को इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ खंडपीठ ने जारी किया था आदेश
 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। हाईकोर्ट के आदेश के एक माह से अधिक होने के बावजूद राजधानी के राजकीय बाल गृहों व राजकीय महिला शरणालयों में स्वास्थ्य शिविर नहीं लगाया गया। इसको संज्ञान में लेते हुए सीएमओ ने पुन: आदेश जारी किया कि सप्ताह में दो बार शिविर लगाया जाए।
हाईकोर्ट के इस आदेश के बाद सीएमओ एसएनएस यादव ने राजधानी के प्रमुख अस्पतालों के कई चिकित्सकों को शहर के कई इलाकों में स्थित राजकीय बाल गृहों और राजकीय महिला शरणालयों में स्वास्थ्य शिविर लगाने की ड्यूटी लगाई थी। इसके आलावा फॉर्मासिस्ट और वाहन व क्लीनर की ड्यूटी भी लगाई गई थी लेकिन अभी तक इन स्थानों पर चिकित्सकों की ओर से कोई शिविर नहीं लगाया गया।
सीएमओ को जब इसका पता चला तो सीएमओ एसएनएस यादव इस पर नाराजगी जाहिर करते हुए लोहिया चिकित्सालय, बलरामपुर चिकित्सालय, आरएलबी चिकित्सालय, डफरिन अस्पताल, झलकारीबाई अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षकों को फिर से आदेश जारी किया है। सीएमओ ने इन अस्पतालों के मुख्य चिकित्सा अधीक्षकों को आदेश को सख्ती से लागू करने के आदेश दिये हैं।

संस्थान का नाम विशेषज्ञ का विवरण चिकित्सालय का नाम

1-राजकीय बाल गृह, मनोरोग विशेषज्ञ आरएमएल चिकिसालय,
प्राग नरारायण रोड फिजियोथेरेपिस्ट चिकित्सालय
बाल रोग विशेषज्ञ
2-राजकीय बाल गृह, मोतीनगर मनोरोग विशेषज्ञ बलरामपुर चिकित्सालय
फिजियोथेरेपिस्ट
महिला चिकित्साधिकारी डफरिन अस्पताल
3-राजकीय बाल गृह, मोहान रोड मनोरोग विशेषज्ञ बलरामपुर चिकित्सालय
राजकीय सम्प्रेक्षण गृह फिजियोथेरेपिस्ट
फिजीशियन आरएलबी अस्पताल
4- राजकीय महिला शरणालय मनोरोग विशेषज्ञ आरएमएल लखनऊ
प्राग नारायण रोड फिजियोथेरेपिस्ट
महिला चिकित्साधिकारी झलकारीबाई अस्पताल
5- दृष्टिï सामाजिक संस्थान मनोरोग विशेषज्ञ बलरामपुर अस्पताल
सेंक्टर-1, जानकीपुरम बाल रोग विशेषज्ञ 
महिला चिकित्साधिकारी डफरिन अस्पताल

Pin It