रक्तदान के लिए स्वास्थ्य विभाग लेगा सोशल मीडिया का सहारा

Captureसोशल मीडिया का के्रज देखते हुए की गयी पहल

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। वर्तमान समय में सोशल मीडिया बहुत कारगर साबित हो रहा है। अच्छी हो या बुरी खबर, सोशल मीडिया के माध्यम में कुछ मिनटों में लोगों तक पहुंच जाती है। अब तो सरकारी योजनाएं भी सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों तक पहुंचायी जा रही है। इसी कड़ी में स्वास्थ्य विभाग भी रक्तदान को बढ़ावा देने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लेने जा रहा है।
सोशल मीडिया का के्रज देखते हुए अब सूबे का स्वास्थ्य महकमा भी इसका इस्तेमाल कर लोगों को रक्तदान के लिए प्रेरित करेगा। साथ ही डोनर को समय-समय पर सम्मान कर उनका मनोबल भी बढ़ाएगा। वर्तमान में स्वैच्छिक रक्तदान का प्रतिशत 70 है, जिसको बढ़ाकर 90 प्रतिशत किए जाने का लक्ष्य है। प्रमुख सचिव स्वास्थ्य विभाग अरविंद कुमार ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग भी सोशल मीडिया द्वारा लोगों को रक्तदान के लिए जागरूक करेेगा। हम ज्यादा से ज्यादा लोगों को जोड़ेंगे ताकि लोग जागरूक हो रक्तदान करें। इससे जरूरतमंदों की मदद होगी। इरक्तदान में सोशल मीडिया का क्या रोल हो सकता है, इस विषय में राजधानी के कुछ युवाओं से बातचीत की गयी।

अभी हाल में ही रिलेशन में एक बच्ची को ओ ब्लड ग्रुप की जरूरत पड़ी। बच्ची शहर के एक प्राूइवेट अस्पताल में भर्ती थी। मैने कई जानने वालों से संपर्क किया लेकिन बच्ची का ब्लड ग्रुप नहीं मिला तो मैंंने फेसबुक पर नाम, पता, और ब्लड ग्रुप की जानकारी के साथ अपडेट किया। अपडेट के आधे घंटे बाद ही दो जानने वाले रक्तदान के लिए पहुंच गये। मैं हैरान था, वह दोनों मेरे जानने वाले ही मित्र थे लेकिन उनका मोबाइल नंबर मेरे पास नहीं था।
– अजीत यादव, इंटर्न केजीएमयू

सोशल मीडिया के माध्यम से तो कुछ भी किया जा सकता है। रक्तदान के लिए लोगों को प्रेरित करना अच्छा माध्यम है। मेरी माता जी को ब्लड की जरूरत थी। मैने फेसबुक पर जानकारी के साथ स्टेटस अपडेट किया। करीब 45 मिनट बाद दो लोग तुरंत रक्तदान के लिए आये।
– आराध्य मिश्र, छात्र एलएलबी

मुझे याद है कि मेरे एक दोस्त की माता जी को ब्लड की जरुरत थी। मैने तुरंत अपना मोबाइल नंबर और संबंधित स्टेटस फेसबुक पर डाला। उसके बाद लगातार मेरे मोबाइल पर फोन आने लगे।
– अंकुर तिवारी, छात्र, लखनऊ

Pin It