रईसजादों ने चढ़ाई कार, मां बेटे की मौत पिता पुत्र घायल

लखनऊ। महानगर में शुक्रवार की सुबह एक सडक़ पर सो रहे मजदूरों को रईसजादों ने इंडिगो कार से कुचल दिया। जिसमें मां-बेटे सहित दो की मौत हो गई जबकि दादा और पोता गम्भीर रूप से घायल हो गये। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने घायलों को उपचार के लिए ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया। इंडिगो कार किसी पे्रस की बताई जा रही है। घटना होने के बाद मौके पर हडक़म्प मच गया। आरोप है कि पुलिस पत्रकारों को बचा रही है।
घटना में जहां महानगर इंस्पेक्टर संजय नाथ तिवारी ने बताया कि बादशाहनगर चौराहे पर बीज निगम के पास केशव राज, अपनी पत्नी माया देवी, पुत्र रवि और पोता विकास के साथ सो रहे थे। शुक्रवार की सुबह इंडिगो कार नम्बर यूपी 32 ईवाई 4620 के चालक कृष्ण कुमार शर्मा निवासी सीमांत नगर, कंचना बिहारी मार्ग ने बादशाहनगर चौराहे पर बीज निगम के पास सो रहे मजदूरों को कुचल दिया। जिससे 55 वर्षीय माया देवी, उनका 24 वर्षीय पुत्र रवि की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। जबकि केशव और आठ वर्षीय विकास गम्भीर रूप से घायल हो गये। कार की ट्रक से मौके पर हडक़म्प मच गया। स्थानीय लोगों ने कार चालक के साथ ही कार में सवार विरेंद्र पांडेय और अविनाश को पकडक़र पुलिस को सूचना दी। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस तीनों को गिरफ्तार कर कोतवाली ले गई। जबकि घायलों को उपचार के लिए ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया। पुलिस ने कार को कब्जे में ले लिया है। सूत्रों के मुताबिक ट्रॉमा सेंटर में उपचार के दौरान एक की और मौत हो गई है। पुलिस इस मामले में दो की पुष्टि कर रही है।
पुलिस पर पत्रकारों को बचाने का आरोप
स्थानीय लोगों का आरोप है कि पुलिस घटना में शामिल पत्रकारों को बचाने का प्रयास कर रही है। घटना के कई घंटे बाद हिरासत में तीनों को रखने के बाद भी पुलिस यह पता करने में नाकाम रही है कि कार किसके नाम से है और कौन-कौन लोग किस पद पर है। इंस्पेक्टर के मुताबिक पूछताछ की जा रही है। सवाल उठता है कि जो पकड़े गये हैं वह पेशेवर अपराधी हैं क्या जिससे आठ घंटे बाद भी पुलिस यह नहीं जान पाई कि तीनों क्या करते हैं। कार पर पे्रस ऑन ड्यूटी रीडर वॉइस लिखा हुआ है। फिलहाल महानगर पुलिस तीनों को बचाने का प्रयास कर रही है।

Pin It