यूपी: हासिये पर कट्टर मुस्लिम सियासत

अजय कुमार

ajay kumarउत्तर प्रदेश में चुनावी रणभेरी बज चुकी है। कौन होगा यूपी का अगला सीएम। यह जिज्ञासा चैतरफा देखी जा सकती है। सबके अपने-अपने दावे हैं, लेकिन इतिहास के पन्नों के आधार पर कहा जाये तो अखिलेश यादव के दोबारा सीएम बनने की उम्मीद न के बराबर है। इतिहास तो यही बताता है कि यूपी की जनता ने किसी को भी लगातार दो बार सीएम की कुर्सी पर नहीं बैठाया है। ऐसे में सवाल उठना लाजिमी है कि अगर अखिलेश नहीं तो कौन? क्या बसपा की फिर से सरकार बनेगी? या कांगे्रस के सितारे चमकेंगे अथवा पीएम और बीजेपी के बड़े नेता नरेन्द्र मोदी का जादू यूपी में भी चलेगा। सियासी की बिसात पर सभी प्रमुख दल अपना वोट बैंक मजबूत और विरोधियों के वोट बैंक में बिखराव होता देखना चाहते हैं। नेताओं की इसी चाहत ने यूपी को एक बार फिर जातिवादी राजनीति के दलदल में ढकेल दिया है। मगर अबकी से मुसलमानों को लेकर यूपी की सियासत का रुख कुछ बदला-बदला नजर आ रहा है। बसपा हो या समाजवादी पार्टी अथवा कांगे्रस सभी दल मुस्लिम वोट बैंक को मजबूत करने के चक्कर में ज्यादा उतावलापन नहीं दिखा रहे। शायद इन दलों के रणनीतिकारों के दिलो-दिमाग से 2014 के लोकसभा चुनाव वाला मंजर निकल नहीं रहा होगा। इसलिये कोई गलती न दोहराते हुए यह दल मुस्लिम सियासत के चक्कर में फंस कर हिन्दू वोट बैंक को लामबंद होते नहीं देखना चाहते हैं। इसी वजह से प्रदेश में अल्पसंख्यकों को लेकर की जाने वाली सियासत का चेहरा अब बदलने लगा है।
2014 के लोकसभा चुनाव तक कई दलों के नेतागण मुस्लिमों के तुष्टीकरण की खुली राजनीति करते रहे थे, लेकिन 2014 में बीजेपी ने विरोधियों के खिलाफ मुस्लिम तुष्टीकरण का ढिंढोरा पीट कर हिन्दू वोटरों को अपने पक्ष में लामबंद किया तो मुस्लिम वोटों की चाहत रखने वालों के हाथ के तोते उड़ गये। अब ज्यादातर सियासी पाॢटयां मुस्लिम मतों के धु्रवीकरण की खुली राजनीति से बचने लगी हैं। इसी वजह से आजम खान जैसे नेताओं को सपा ने पार्टी से बाहर का रास्ता भले ही न दिखाया हो लेकिन एक तरह से हासिये पर तो डाल ही दिया है। बाहुबली मुख्तार अंसारी जैसे लोगों द्वारा खड़े किये घोर मुस्लिमपरस्त दलों से सपा नजदीकी बनाने से बचने लगी है। सपा-बसपा के समझ में आ गया है कि वे धु्रवीकरण करते हैं, तो उसका जवाबी धु्रवीकरण होने लगता है। इसका नतीजा 2014 के आम चुनाव में सब देख चुके हैं। यूपी में 80 में से 73 सीटों पर भाजपा ने जीत हासिल की थी।अल्पसंख्यकों के धु्रवीकरण के नाम पर जो राजनीति चली, उसका फायदा भाजपा ने हिंदुओं का जवाबी धु्रवीकरण करके उठाया। हालांकि यह कोशिश दिल्ली और उसके बाद बिहार विधानसभा चुनाव में परवान नहीं चढ़ पाई। हांं, असम में इसका असर दिखा। अगले वर्ष पांच राज्यों में विधान सभा चुनाव होना है। यूपी भी उसमें एक है। यूपी में विधानसभा चुनाव की तैयारी चल रही है, तो 2014 का मंजर देख चुके मुस्लिमपरस्त नेता जवाबी धु्रवीकरण के खतरे को लेकर सचेत नजर आ रहे हंै। इस सियासी बदलाव से न सिर्फ प्रदेश की राजनीति बदली है बल्कि नेताओं के सुर भी बदल गये हंै। यूपी में इस समय जो राजनीतिक सरगर्मियां हैं, उनसे यह लग रहा है कि 2017 के विधानसभा चुनाव में हिन्दू वोट बैंक को एकजुट करने के ज्यादा प्रयास किये जायेंगे। भाजपा व संघ विकास, जाति के साथ-साथ हिंदू मतों के धु्रवीकरण पर काम कर रही है, तो दूसरी ओर बसपा, सपा व कांग्रेस को भय सता रहा है कि उदारवादी दिखने के चक्कर में कहीं मुस्लिम मतों का लोकसभा चुनाव की तरह फिर से बंटवारा न हो जाये।
गैर-भाजपा दलों की चिंता यहीं नहीं खत्म हुई है। मुस्लिम वोटों के बंटवारे की संभावना में घुले जा रहे नेताओं को यह दर्द भी अंदर ही अंदर खाये जा रहा है कि उदारवादी रवैया अख्तियार करने के बाद भी भाजपा उन्हें मुस्लिमों का पक्षधर बताकर उनके विरुद्ध हिंदू मतों का धु्रवीकरण करने में लगी है। हालात यह कि सपा-बसपा और कांगे्रस आदि दल भाजपा की सांप्रदायिकता की बात तो कर रहे हैं, लेकिन मुस्लिम समुदाय से जुड़े मुद्दों को मुखर ढंग से नहीं उठा पा रहे हैं।
दरअसल, मुस्लिम वोटों की चाहत रखने वाले दलों की सोच में परिवर्तन पड़ोसी राज्य बिहार की सियासत से आया है। बसपा, कांग्रेस और सपा जैसे दल चाहते हैं कि मुस्लिम मत उनके पाले में बिहार की तर्ज पर आगे बढ़े। बिल्कुल खामोशी से। असल में गैर-भाजपाई नेता मुस्लिम वोटों का धु्रवीकरण तो चाहते हैं लेकिन हिंदुओं का जवाबी धु्रवीकरण न हो पाए,इसके लिये भी प्रयत्नशील रहते हैं। इसीलिये बसपा, सपा और कांग्रेस अपनी राजनीति में हिंदुओं के हितों के लिये भी कुछ न कुछ कहते रहते हैं। बसपा गरीब सवर्णों को आरक्षण की बात कहती है तो सपा श्रवण तीर्थ यात्रा चलाती है। गौरतलब हो, ऐसी ही योजनाओं के सहारे मध्य प्रदेश की शिवराज सिंह सरकार ने खासा चुनावी लाभ हासिल किया था। सपा के नेता और विधायक जहां भी संभव होता है, हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियां लगवाते हैं या बनवाने में भरपूर आर्थिक सहयोग देते हैं। इसी रणनीति के तहत सैफई महोत्सव स्थल पर 35 फीट ऊंची हनुमान जी की मूर्ति स्थापित की गई थी। जब कैराना सें हिन्दुओं के पलायन की खबरें आती हैं तो वहां की सच्चाई पता लगाने के लिये सीएम अखिलेश यादव हिन्दू धर्मावलंबियों की फौज भेज देते हैं, ताकि ंिहन्दुओं की नाराजगी को कम किया जा सके। गौरतलब हो, कथित पलायन की जांच के लिए सपा सरकार ने एक समिति गठित करके आचार्य प्रमोद, स्वामी कल्याण, नारायण गिरि, स्वामी चिन्मयानंद और स्वामी चक्रपाणि को कैराना का दौरा कराया था जिन्होंने दौरे के बाद सपा सरकार के पक्ष में अपनी रिपोर्ट तैयार करते हुए कहा कि कैराना से हिंदुओं के पलायन की खबर सच नहीं है। संतों की बात को मीडिया के सामने मजबूती के साथ रखा गया। अखिलेश सरकार यह सब काम ढिंढोरा पीट के कर रही हैं ताकि उसकी मुस्लिम परस्त ईमेज न बने। वैसे भी सीएम अखिलेश यादव अक्सर साधु-संतों से मिलते जुलते रहते हैं।

Pin It