यूपी में अंतिम सांस ले रही कानून व्यवस्था: अखिलेश

यूपी में अंतिम सांस ले रही कानून व्यवस्था: अखिलेश

  • बेरोजगारी से परेशान लोग कर रहे आत्महत्या
  • भ्रष्टïाचार का शिकार हुई भर्तियां, युवा निराश
  • सूई का कारखाना तक नहीं लगा सकी भाजपा सरकार

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा है कि उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था अंतिम सांस ले रही है। बेरोजगारी से परेशान और हताश लोग आत्महत्या कर रहे हैं। नौजवान ठगा महसूस कर रहे हैं। जनता किससे राहत की उम्मीद करे जबकि भाजपा सरकार लोगों का खून निचोडऩे में लगी है। कोरोना संकट से तो जिंदगी ऐसे ही बेपटरी हो चली है, ऊपर से सरकार की गलत नीतियों के चलते कामकाज, पढ़ाई, व्यापार के सभी रास्ते अवरूद्ध हैं।
उन्होंने कहा कि औरैया के दिबियापुर में जिला जज की गाड़ी पर बदमाशों ने हमलाकर दिया। जब न्यायाधीश सुरक्षित नहीं हैं तो आम जनता का क्या हाल होगा? उन्नाव के पुरवा क्षेत्र में पुलिस कर्मी पर दो बदमाशों ने कुल्हाड़ी से जानलेवा हमला कर दिया। उनकी बाइक तोड़ दी। लखीमपुर में सत्ता से संरक्षण प्राप्त सीओ ने अपने ड्राइवर पर पिस्तौल तान दी। सीओ पर कड़ी कार्रवाई के बजाय उसे ट्रैफिक में भेजकर मामला दबा दिया गया। प्रदेश की भाजपा सरकार से युवाओं को नाउम्मीदी के अलावा और कुछ नहीं मिला। 2017 से 2020 तक एक भी नौकरी में भर्ती नहीं हुई। हर नौकरी भ्रष्टाचार की शिकायतों से भरी रही। इन्वेस्टमेंट मीट में अरबों रूपए फूंक कर एक सुई का कारखाना तक भाजपा सरकार नहीं लगवा सकी। फिर भी करोड़ों को नौकरी देने का झूठा प्रचार कर युवाओं को धोखा दिया जा रहा है।
उन्होंने कहा कि सरकार की अदूरदर्शिता और पक्षपातपूर्ण नीतियों के चलते उद्योग चौपट है, खेती बर्बाद है और रोजगार का कहीं अता-पता नहीं। आगरा में बेरोजगार जूता कारीगर ने आत्महत्या कर ली। कानपुर में कपड़ा व्यवसायी ने आर्थिक तंगी में गंगा में छलांग लगा ली। प्रयागराज में व्यापारी और मौदहा में एक किसान ने आर्थिक दिक्कतों के चलते फांसी लगा ली। भाजपा सरकार को जनसामान्य की परेशानियों से कोई लेना-देना नहीं है। इतिहास में पहली बार डीजल, पेट्रोल से ज्यादा मंहगा हो गया है। डीजल का सर्वाधिक उपयोग कृषि में होता है। इसकी महंगाई का सीधा असर किसान पर पड़ेगा। उसके उत्पाद की लागत कई गुना बढ़ जाएगी। डीजल के दाम बढऩे से पम्पिंग सेट, ट्रैक्टर आदि के संचालन में बाधा आएगी। परिवहन भी महंगा हो जाएगा। खाद्य पदार्थ, सब्जी, फल आदि भी और महंगे हो जाएंगे। जनता का घरेलू बजट बिगड़ जाएगा।

दहेज न मिलने पर पत्नी को दिया तीन तलाक

  • बच्चे समेत किया घर से बाहर, नामजद तहरीर

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
श्रावस्ती। दहेज की मांग पूरी न कर पाने पर भिनगा कोतवाली क्षेत्र के जोधीपुरवा गांव में पति ने पत्नी को तीन तलाक बोलकर घर से भगा दिया। पीडि़ता अपनी दो वर्षीय मासूम बच्ची व मां के साथ भिनगा कोतवाली पहुंची। पीडि़त महिला ने पति समेत तीन लोगों के खिलाफ नामजद तहरीर दी है। पुलिस मामले की जांच-पड़ताल कर रही है।
केंद्र सरकार ने भले ही तीन तलाक को विधेयक लाकर अवैध व गैर कानूनी घोषित कर चुकी है, लेकिन तलाक की घटनाएं थम नहीं रही है। कोतवाली क्षेत्र के गडऱा गांव की सुन्नू ने अपनी पुत्री नाजिमा बेगम की शादी जोधीपुरवा गांव निवासी हैदर खान के साथ लगभग आठ वर्ष पूर्व की थी। शादी के बाद उसकी एक लडक़ी भी हुई। पीडि़ता ने बताया कि शादी के बाद से ही उसके पति, सास व ससुर दहेज में मोटरसाइकिल की मांग करने लगे और न लाने पर आए दिन मारने-पीटने लगे। पीडि़त महिला ने बताया कि नौ जून को उसके पति हैदर खान, ससुर नानमून व सास नूरजहां ने उसकी पिटाई की। इसके बाद उसके पति ने उसे तीन बार तलाक बोलकर उसके सारे कपड़े व जेवर छीनकर उसे घर से भगा दिया। भिनगा कोतवाल दद्दन सिंह ने बताया कि तहरीर मिली है। जांच-पड़ताल की जा रही है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *