यूपी बोर्ड परीक्षा में इस बार भी हॉवी रहेंगे नकल माफिया

दागी स्कूल भी हुए सेंटर की सूची में शामिल

Capture 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। यूपी बोर्ड परीक्षा के केंद्र तय करने के लिए जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जिला समिति बैठक में पहले तो 145 स्कूलों में 147 परीक्षा केंद्र तय किए गए थे, जिसमें तीन स्कूलों को सूची से बाहर किया गया था। अब उसे भी परीक्षा केंद्र बनाने का निर्णय लिया गया है।
हर साल यूपी बोर्ड परीक्षा के पहले जिम्मेदार नकल विहीन परीक्षा कराने के दावे करते हैं लेकिन परीक्षा के आते ही नकल माफियाओं का वर्चस्व नजर आने लगता है। लाख कोशिशों के बाद भी जिम्मेदार इसे नकल माफियाओं के शिकंजे से नहीं बचा पाते। इस बार भी परीक्षा केंद्र घोषित करने के पश्चात नवम्बर के अंतिम हफ्ते तक आपत्तियां मांगी गई थी। जिसको लेकर पूरी राजधानी से करीब 95 आपत्तियां आई थी। इसे दूर करने के साथ 147 परीक्षा केंद्र तय किए गए जिसमें तीन स्कूल को लिस्ट से बाहर कर दिया गया था। उस समय इन स्कूलों में अनियमितता होने की बात कही गई थी,लेकिन बाद में इन स्कूलों को भी सेंटर सूची में शामिल कर लिया गया। इस संबंध में डीएम राजशेखर से सवाल करने पर उन्होंने बताया कि तकनीकी गड़बड़ी के कारण डीआईओएस ऑफिस से इन तीन स्कूल के नामों की सूची नहीं आ पाई थी, जिसके कारण इसे सेंटर लिस्ट से बाहर रखा गया था। इन स्कूलों की लिस्ट बाद में आने के बाद इनकी जांच की गई। इनमें ऐसी कोई अनियमितता न होने के कारण इसे सेंटर के लिए फाइनल किया गया है। जिम्मेदारों के इस जवाब से यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि नकल माफियाओं की पैठ के कारण दागी स्कूलों को इस बार भी सेंटर बनाने से नहीं रोक पाये हैं जिम्मेदार। सवाल यह उठता है कि दागियों सेंटर बनाने से जिम्मेदार नहीं रोक पाए तो बोर्ड परीक्षा में इन पर कैसे शिकंजा कस पाएगा प्रशासन।

Pin It