यूपी के हिस्से का पानी रोकने पर पड़ोसी राज्य को शिवपाल यादव ने दी चेतावनी

मध्य प्रदेश पर दर्ज होगी एफआईआर
4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Captureलखनऊ। मध्य प्रदेश द्वारा यूपी के हिस्से का पानी रोकने पर यूपी के सिंचाई मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने एमपी सरकार को चेतावनी दी है। उन्होंने सख्त तेवर अपनाते हुए कहा है कि अगले 24 घंटों में मध्य प्रदेश ने पानी नहीं छोड़ा तो उसके अधिकारियों के खिलाफ यूपी सरकार एफआईआर दर्ज करवाएगी।
गुरुवार को केंद्रीय जल मंत्री उमा भारती के साथ दिल्ली में दोनों राज्यों के मुख्य सचिवों की बैठक थी। इसमें शिवपाल यादव ने कड़ा रुख अपनाया और कहा कि हम भी दतिया बैराज से एमपी को मिलने वाला पानी रोक देंगे। उमा भारती ने 24 घंटे में समाधान का भरोसा दिलाया है। इसके पहले मध्य प्रदेश के मुख्य सचिव ने कहा था कि यूपी इस पानी के एवज में भुगतान नहीं करता, इसलिए हम पानी रोक देंगे। यूपी सरकार का कहना है कि हमने इसके लिए हुए अनुबंध का पूरा पालन किया है। दरअसल यूपी के कई हिस्सों में एमपी से आने वाली सोन, केन और बेतवा नदियों का पानी आता है। उससे बुंदेलखंड से लेकर मिर्जापुर तक के इलाकों में फसलों की सिंचाई होती है। सोन नदी पर पानी रोके जाने से सोनभद्र और मिर्जापुर में हाहाकार की स्थिति है। यूपी सरकार का कहना है कि 2006 में 1200 करोड़ रुपए दिए थे। इसके बाद केंद्र सरकार ने इसे बढ़ाकर 1600 करोड़ माना था। यूपी सरकार का कहना है कि अब तक 94 करोड़ रुपए से ज्यादा का भुगतान किया है और एमपी को अनुबंध के अनुसार हमें पानी देना होगा। यदि एमपी ने बाण सागर बांध से पानी नहीं छोड़ा तो हम भी एमपी का पानी रोकेंगे और एमपी के अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर भी करवा देंगे।
बता दें कि बाण सागर बांध मध्य प्रदेश में स्थित है और बाण सागर कंट्रोल बोर्ड द्वारा नियंत्रित होता है। गर्मी और बरसात की कमी के कारण उत्तर प्रदेश के सोनभद्र और मिर्जापुर में पेयजल की कमी होने से प्रदेश सरकार ने केंद्रीय जल आयोग के अध्यक्ष से आग्रह किया था। इसमें कहा था कि वह मध्य प्रदेश से बाण सागर बांध से पानी छोडऩे के लिए कहें। मध्य प्रदेश सरकार ने पानी देने से मना कर दिया था।

 

Pin It