यूपी के सियासी घमासान पर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में ब्रजेश मिश्रा का जलवा

 

यूपी के सियासी घमासान पर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया  मईटीवी पर सियासी उठापटक में रुचि रखने वालों की टिकी रहीं निगाहें

रामगोपाल से लेकर शिवपाल तक अपनी बात कहने पहुंचे ईटीवी के दतर

राज्यपाल से लेकर मुय सचिव तक पहुंचे ईटीवी के दतर में 

सपा में चल रहे घमासान की सारी ब्रेकिंग खबरों की जानकारी लोगों को मिली ईटीवी और ब्रजेश मिश्रा के ट्वीट सेें ब्रजेश मिश्रा का जलवाcapture

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। यूपी के सियासी घमासान और सबसे बड़ी समाजवादी कुनबे में तकरार की खबरों में ईटीवी और ब्रजेश मिश्रा ने बाजी मार ली। ईटीवी पर प्रदेश सरकार के मंत्रिमण्डल से मंत्रियों की बर्खास्तगी, मुख्य सचिव का तबादला, नये मुख्य सचिव की नियुक्ति और सारे घटनाक्रम के पीछे जिम्मेदार लोगों के नाम का खुलासा सबसे पहले ईटीवी ने किया। इसके अलावा सपा के प्रदेश अध्यक्ष पद से अखिलेश यादव को हटाने, उनकी जगह शिवपाल सिंह यादव को तैनात करने की खबरों को सबसे पहले ईटीवी और ब्रजेश मिश्रा ने ट्विटर के माध्मय से उपलब्ध करवाया। यादव परिवार के लोगों में अनबन से लेकर तथाकथित सुलह तक की खबरों को पल-पल लाइव दिखाने में भी ईटीवी सबसे आगे रहा। ईटीवी की पूरी टीम यूपी में सियासी संकट और सपा में गुटबाजी से जुड़ी पल-पल की खबरों को तथ्यों के साथ लोगों तक पहुंचाती रही है। ऐसे में यूपी का सबसे बेहतरीन चैनल माना जाने वाला ईटीवी एक बार फिर यूपी के सियासी संकट में नंबर वन बनकर सबके सामने आया है।
ईटीवी के ब्रजेश मिश्रा ने सबसे पहले दिल्ली में अमर सिंह और चीफ सेक्रेटरी की मौजूदगी में सीएम के बारे में कही जाने वाली आपत्तिजनक बातों का ट्विट किया था। इसके बाद आशंका जताई थी कि बहुत जल्द मुख्यमंत्री मुख्य सचिव दीपक सिंघल की जगह किसी अन्य की तैनाती कर सकते हैं। इसके अलावा प्रदेश सरकार के मंत्रिमण्डल में शामिल गायत्री प्रजापति और कुछ अन्य मंत्रियों को हटाने की आशंका व्यक्त की गई थी। आखिरकार वही हुआ, मुख्य सचिव पद से दीपक सिंघल को हटाये जाने के बाद गायत्री प्रजापति और राजकिशोर सिंह को मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया गया। इसके बाद सपा सुप्रीमो ने अखिलेश को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाकर शिवपाल यादव को प्रदेश अध्यक्ष की कमान सौंपी। यह खबर भी ईटीवी पर ही सबसे पहले दिखाई गई। इसके बाद अखिलेश और शिवपाल में नाराजगी से लेकर दोनों के बीच सुलह कराने तक की खबरों को भी ईटीवी ने सबसे बेहतर ढंग से दिखाया। ईटीवी ने यूपी के सियासी संकट की पल-पल की खबरों को बेहतर ढंग से प्रस्तुत किया। इस तरह यूपी के इलेक्ट्रानिक चैनलों में अपने नंबर वन होने का प्रमाण भी सबके सामने पेश कर दिया।

Pin It