यातायात सुधार और अतिक्रमण

कई बार तो यह भी सुनने में आता है सडक़ों पर किये गये कब्जों के कारण घंटों जाम लग जाता है। इस दौरान एंबुलेंस व अन्य गंभीर मरीज ले जा रहे वाहन फंस जाते हैं जिससे मरीज के प्राण रास्ते में ही निकल जाते हैं।

sanjay sharma editor5आये दिन शहरों में देखने को मिलता है कि अतिक्रमण के चलते जाम की समस्या बनी रहती है। जिससे निपटने के लिये शासन व प्रशासन लगातार प्रयासरत रहता है। बावजूद इसके इस समस्या से निजात पाना मील का पत्थर साबित हो रहा है। सवाल यह उठता है कि क्या यातायात विभाग व नगर निगमों/निकायों द्वारा किये जा रहे प्रयास सही दिशा व ईमानदारी से नहीं किये जा रहे या इसका कारण सडक़ पर कब्जा करने वालों का वर्चस्व है। एक तरफ यातायात विभाग इस समस्या को लेकर हमेशा परेशान नजर आता है तो दूसरी तरफ नगर निकाय के अधिकारी व कर्मचारी भी अपना पसीना पोछते नहीं थकते। लाख प्रयासों के बावजूद अतिक्रमण और जाम की समस्या जस की तस बनी रहती है।
राजधानी लखनऊ में आये दिन अतिक्रमण हटाओ अभियान चलते देखा जाता है। इस अभियान के समय तो यही लगता है कि अब अतिक्रमण और जाम से मुक्ति मिल जायेगी। वास्तव में ऐसा होता कुछ नहीं है। होता यह है कि अभियान के बाद दूसरे दिन ही सडक़ों पर फिर कब्जा हो जाता है। यह भी देखा जाता है कि सडक़ पर कब्जा करने वाले बड़े-बड़े होटलों और अन्य संस्थानों का अतिक्रमण हमेशा बना रहता है। कारण यह है कि अक्सर यह बड़े और पहुंच वाले लोग उच्चाधिकारियों और नेताओं से संपर्क करके अतिक्रमण हटाने वाले दस्ते को बैरंग वापस लौटने पर मजबूर कर देते हैं। अतिक्रमणकारियों को संरक्षण देने वालों को जरा सी भी शर्म नहीं आती कि वही ऐसा करते हैं जिन पर इसकी जिम्मेदारी है।
अभी हाल ही में नगर निगम द्वारा चलाये गये अतिक्रमण हटाओ अभियान का कुछ बदला रूप देखने को मिला। महानगर, गोमतीनगर समेत कई जगह तो बिना जानकारी दिये अतिक्रमणकारियों द्वारा किये गये निर्माण व बाउंड्रीवाल तोड़ दी गईं। यह अच्छी बात है लेकिन सिर्फ इतने से ही काम नहीं चलने वाला। समस्या का समाधान तो तब होगा जब दोबारा कब्जे न होने पायें। कई बार तो यह भी सुनने में आता है सडक़ों पर किये गये कब्जों के कारण घंटों जाम लग जाता है। इस दौरान एंबुलेंस व अन्य गंभीर मरीज ले जा रहे वाहन फंस जाते हैं जिससे मरीज के प्राण रास्ते में ही निकल जाते हैं।
हालांकि इस समस्या से निपटने के लिये यातायात विभाग ने फेसबुक और ट्विटर पेज बनाया है जिस पर शिकायत की जा सकती है लेकिन इसके साथ ही विभागों को ईमानदारी से काम भी करना चाहिये। तभी इन समस्याओं का समाधान संभव है। सरकार को भी इस ओर गंभीरता से कार्य करना चाहिये। जिससे लोगों को यातायात की वजह से किसी भी प्रकार का कोई नुकसान हो।

Pin It