मौका मिलता तो कोर्ट में ही कर देते हत्या

व्यापारी और गनर की हत्या का पर्दाफाश, तीन गिरफ्तार

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। एसटीएफ टीम ने गौतमबुद्धनगर में विगत दिनों व्यापारी और गनर की हुई हत्या का पर्दाफाश करते हुये तीन बदमाशों को गिरफ्तार किया। इन तीनों के पास अवैध असलहा और कारतूस बरामद हुआ। पूछताछ में बदमाशों में स्वीकार किया कि यदि उनको मौका मिलता तो वह कोर्ट में ही दोनों की हत्या कर देते।
गौतमबुद्धनगर जनपद के थाना सूरजपुर क्षेत्र के ग्राम जनपत निवासी व्यापारी राजकुमार शर्मा व उनकी सुरक्षा में नियुक्त आरक्षी नितिन की बदमाशों ने ताबड़तोड़ फायरिंग करके 16 जून को हत्या कर दी थी। इस जघन्य घटना के अनावरण हेतु पुलिस महानिदेशक, उत्तर प्रदेश एवं अपर पुलिस महानिदेशक, अपराध एवं कानून व्यवस्था ने एसटीएफ टीम को लगाया था। मुखबिर की सूचना पर टीम ने 22 जून को ग्राम तिलपता से तीन बदमाशों को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार हुये बदमाशों की शिनाख्त जितेंद्र उर्फ सोनू निवासी गांधीनगर कस्बा व थाना सिकंदराबाद जनपद बुलन्दशहर, अंकित गूर्जर उर्फ अरविंद पोशवाल निवासी थाना दादरी जनपद गौतमबुद्धनगर, योगेंद्र उर्फ रिंकू निवासी ग्राम फतेहपुर थाना अगौता जनपद बुलन्दशहर के रूप में हुई।
गिरफ्तार अभियुक्त जितेंद्र ने पूछताछ पर बताया कि वह कुख्यात अनिल दुजाना एवं बलराम ठाकुर के लिये हत्या करने व रंगदारी मांगने के अपराध में संलिप्त रहा है। वह वर्ष 2014 में जनपद बुलन्दशहर में हुई एक हत्या के प्रकरण में जेल में निरूद्ध था। इसी दौरान उसकी मुलाकात बलराम ठाकुर से हुई थी। माह अक्टूबर 2014 में वह जमानत पर रिहा हुआ था और तभी से वह इनके लिये लगातार अपराधिक कार्य कर रहा है। उसने बताया कि 22 मई को मृतक राजकुमार शर्मा के पुत्र कुलदीप की नरेंद्र शर्मा हत्याकाण्ड में गवाही थी जिसमें मृतक के पुत्र कुलदीप द्वारा न्यायालय में मौजूद बलराम ठाकुर एवं अनिल दुजाना के विरूद्ध गवाही दी गई थी। जहां न्यायालय परिसर मे मौजूद सोनू, केपी, रिंकू पंजाबी से बलराम ठाकुर ने गवाह कुलदीप को ठिकाने लगाने को कहा था। जितेंद्र ने बताया कि उक्त घटना को उन्होंने जेल में निरुद्ध कुख्यात अनिल दुजाना एवं बलराम ठाकुर के कहने पर अन्जाम दिया था। क्योंकि मृतक राजकुमार शर्मा के पुत्र कुलदीप द्वारा अपने भाई नरेंद्र शर्मा की हत्या से सम्बन्धित अभियोग में उसने न्यायालय मे गवाही दी थी।

Pin It