मेधावी गरीब छात्रों की पैसे के अभाव में नहीं रुकेगी पढ़ाई

  • कक्षा 5 से लेकर ग्रेजुएशन तक के छात्रों को दी जाएगी आर्थिक मदद

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। मेधावी छात्रों की पैसे के अभाव में अब पढ़ाई नहीं रूकेगी। मेधावी छात्रों के लिए सरकार ‘मेधावी छात्र पुरस्कार योजना’ चला रही है जिसके माध्यम से कक्षा 5वीं से ग्रेजुएशन तक के स्टूडेंट्स को मदद दी जाएगी।
‘मेधावी छात्र पुरस्कार योजना’ के तहत कक्षा पांचवी से ग्रेजुएशन तक के छात्रों को आर्थिक मदद दी जाएगी। इसमें 5वीं से 7वीं क्लास तक 70 फीसदी नंबर पाने वालों को सरकार सहायता के तौर पर 4000 रुपए देगी। लड़कियों को 4500 रुपए दिए जाएंगे। 8वीं क्लास में 70 फीसदी नंबर पाने वालों को सरकार 5000 रुपए देगी। लड़कियों को 5500 रुपए दिए जाएंगे।
9वीं और 10वीं क्लास में 60 फीसदी नंबर पाने वालों को सरकार 5000 रुपए और इस क्लास के लड़कियों को 5500 रुपए सहायता के तौर पर देगी। 11वीं और 12वीं में 60 फीसदी नंबर पाने वालों को सरकार 8000 रुपए मदद के तौर पर देगी। लड़कियों को 10000 रुपए दिए जाएंगे। बीए, बीकॉम और बीएससी इंजीनियरिंग के 60 फीसदी नंबर पाने वाले स्टूडेंट्स को सरकार 10000 रुपए से 22 हजार रुपए तक की सहायता देगी। यह आर्थिक मदद उन्हीं स्टूडेंट्स को मिलेगी जिनके माता या पिता का रजिस्ट्रेशन श्रम विभाग में होगा। उत्तर प्रदेश सरकार इस योजना को ‘मेधावी छात्र पुरस्कार योजना’ के नाम से चला रही है। इसके लिए सबसे पहले श्रम विभाग से मेधावी छात्र पुरस्कार योजना का आवेदन भरना होगा। आवेदन पत्र में स्कूल के प्रधानाचार्य से प्रमाणित फोटो लगा हुआ आवेदन दो फोटोकॉपी के साथ जमा करना होगा। आवेदन पत्र के साथ संबंधित कक्षा में उत्तीर्ण होने की माक्र्स सीट की प्रमाणित फोटो कॉपी उस स्कूल के प्रधानाचार्य के दिए गए प्रमाण पत्र को भी लगाना होगा। वहीं मान्यता प्राप्त स्कूलों से पास छात्र अगर क्लास पांच और आठ के हैं तो इसके लिए बेसिक शिक्षा अधिकारी का प्रमाण पत्र लगेगा। आवेदन पत्र के साथ इस बात का भी प्रमाण पत्र लगाना पड़ेगा कि छात्र शिक्षा ले रहे हैं। इसका उस स्कूल के प्रधानाचार्य से प्रमाणित प्रमाण पत्र आवेदन पत्र के साथ लगाना पड़ेगा। आईटीआई, इंजीनियरिंग और डॉक्टरी की पढ़ाई करने वाले स्टूडेंट्स को वहां प्रवेश के प्रमाण पत्र या फिर प्रवेश की रसीद की फोटोकॉपी लगानी पड़ेगी। इसके बाद जरूरी होने पर विभाग सारी चीजों को वेरीफाई करा सकता है। जिलाधिकारी से स्वीकृति होते ही छात्र के माता या पिता के नाम से जितनी भी राशि होगी उसका चेक जारी कर दिया जाएगा।

Pin It