मुख्य सचिव ने कहा मेडिकल कॉलेज खोलने को अधिकारी दें प्राथमिकता

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ : उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव आलोक रंजन ने प्रदेश में चिकित्सकों की कमी को दृष्टिगत रखते हुए प्रदेश में संचालित 13 मेडिकल कालेजों के अतिरिक्त जौनपुर, चन्दौली, नजीबाबाद (बिजनौर) में नये मेडिकल कालेज खोलने के अलावा जिला अस्पताल फैजाबाद, बस्ती, बहराइच, शाहजहांपुर, फिरोजाबाद को अपग्रेड कर मेडिकल कालेज खोले जाने के प्रस्ताव पर यथाशीघ्र आवश्यक कार्यवाही प्राथमिकता से सुनिश्चित कराने के निर्देश दिये।
मुख्य सचिव आलोक रंजन शास्त्री भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष के सभागार में चिकित्सा विभाग की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में संचालित मेडिकल कालेजों में 1740 एमबीबीएस सीटें, 751 पी.जी. एवं 112 सुपर स्पेशियालिटी (डीएम/एमसीएस) सीटों को बढ़ाने तथा खोले जाने वाले नये प्रत्येक मेडिकल कालेज में 100-100 सीटों की व्यवस्था कराने के भी निर्देश दिये। मुख्य सचिव ने गरीब लोगों के असाध्य रोग के इलाज हेतु प्रदेश सरकार द्वारा मेडिकल कालेजों में उपलब्ध कराई गई धनराशि 05 लाख रूपये का उपयोग पारदर्शिता के साथ कर पात्र लोगों को लाभान्वित कराने हेतु वरिष्ठ चिकित्सकों को सख्त निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि प्रदेश में आयुष मिशन संचालित कराने हेतु लगभग 60 करोड़ रूपये की धनराशि के उपयोग की कार्य योजना यथाशीघ्र बनाकर प्रस्तुत की जाये।
उन्होंने कहा कि डेंगू, स्वाइन फ्लू रोग की जांच की सुविधा प्रदेश के समस्त मेडिकल कालेजों में कराने हेतु आवश्यक उपकरण एवं स्टाफ की व्यवस्था सुनिश्चित करा दी गई है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पैरामेडिकल शिक्षा व्यवस्था के नियामक व्यवस्था को सरल एवं सुदृढ़ कराये जाने हेतु यथाशीघ्र पैरामेडिकल एजुकेशन पॉलिसी का भी प्रस्ताव बनाकर सक्षम स्तर से अनुमोदन प्राप्त किया जाये।

Pin It