मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को धमकी मुख्तार को जेल से नहीं छोड़ा तो मिटा दी जाएगी सरकार

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को धमकी मुख्तार को जेल से नहीं छोड़ा तो मिटा दी जाएगी सरकार

  • यूपी 122 के कंट्रोल रूम के मोबाइल पर भेजा था धमकी भरा मैसेज
  • हजरतगंज कोतवाली में मुकदमा दर्ज, आरोपी गिरफ्तार

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक बार फिर धमकी दी गई है। धमकी देने वाले ने यूपी 122 के कंट्रोल रूम के मोबाइल पर मैसेज भेजकर कहा कि अगर मुख्तार अंसारी को जेल से नहीं छोड़ा गया तो सरकार को मिटा दिया जाएगा। मैसेज मिलने के बाद पुलिस महकमे में हडक़ंप मच गया। इस मामले में हजरतगंज कोतवाली में एफआईआर दर्ज की गई और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। उससे पूछताछ की जा रही है।
पंजाब की जेल में बंद बसपा के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी तथा उनके गैंग पर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार लगातार शिकंजा कस रही है। मुख्तार की करोड़ों की प्रापर्टी को कब्जे में लिया जा चुका है। इसी क्रम में यूपी 112 कंट्रोल रूम के मोबाइल पर धमकी भरा मैसेज आया। मैसेज में कहा गया था कि मुख्तार अंसारी को जेल से शुक्रवार तक नहीं छोड़ा तो सरकार मिटा दी जाएगी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी नहीं छोड़ेंगे। जैसे ही यह मैसेज कंट्रोल रूम यूपी 112 सेवा को मिला पुलिस ने गुपचुप तरीके से आरोपी की तलाश शुरू करने के साथ मुख्यमंत्री समेत अन्य भाजपा नेताओं की सुरक्षा में लगे लोगों को सतर्क कर दिया। पुलिस आयुक्त सुजीत पांडेय ने बताया कि बुधवार दोपहर 9696755113 नंबर से यूपी 112 सेवा के वाट्सएप नंबर पर सरकार और मुख्यमंत्री को लेकर कई धमकी भरे मैसेज आए थे। इसकी सूचना पर इंस्पेक्टर हजरतगंज अंजनी कुमार पांडेय की तरफ से हजरतगंज कोतवाली में मुकदमा दर्ज कर उसकी तलाश शुरू की। उन्होंने बताया कि धमकी देने वाले को लखनऊ से गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपी अमरपाल नाम का ट्रक ड्राइवर है। उसके विषय में जानकारी जुटाई जा रही है। जल्द ही पूरी घटना का पर्दाफाश किया जाएगा। उसके मुख्तार अंसारी से संबंधों के साथ आपराधिक इतिहास के विषय में ब्यौरा जुटाया जा रहा है।

पहले भी दी गई थी धमकी

सीएम योगी को लेकर पहले भी कई बार धमकी भरे मैसेज यूपी 112 के पास आ चुके हैं जिसके बाद लखनऊ में मुख्यमंत्री आवास की सुरक्षा भी बढ़ाई गई थी। इसी साल जून में यूपी पुलिस की इमरजेंसी सर्विस यूपी 112 के व्हाट्सएप नंबर पर एक धमकी भरा मैसेज भेजा गया था, जिसमें सीएम को बम से उड़ाने की धमकी दी गई। इससे पहले मई महीने में भी ऐसी ही एक धमकी पर मुंबई के कामरान अमीन को यूपी एसटीएफ ने गिरफ्तार किया था।

पीएसी के जवानों को बड़ी राहत तत्काल प्रमोशन का आदेश

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। पीएसी जवानों को प्रमोशन न देने के निर्णय को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ ने नाराजगी जताते हुए उनको तत्काल प्रमोशन देने के आदेश दिए हैं। साथ ही शासन को जानकारी दिए बगैर निर्णय करने वाले अफसर के खिलाफ जांच के आदेश दिए हैं। सीएम ने कहा कि पुलिस के जवानों का मनोबल गिराने वाला कोई निर्णय बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।
पिछले दिनों एडीजी (स्थापना) पीयूष आनंद के एक आदेश से हडक़ंप मच गया था। करीब 900 पुलिसकर्मियों को जिला पुलिस से वापस पीएसी में भेज दिया गया था। इससे आम्र्ड पुलिस से सिविल पुलिस में गए सिपाहियों का डिमोशन हो गया। इसमें हेड कांस्टेबल और 6 सब इंस्पेक्टर को कॉन्स्टेबल बनाया दिया गया था। बीते 20 सालों में ये सभी पीएसी से सिविल पुलिस में गए थे। शिकायत मुख्यमंत्री तक पहुंची तो उन्होंने नाराजगी जताते हुए डीजीपी को निर्देश दिए कि इन सभी 900 जवानों को तुरंत प्रमोशन दिया जाए। इस निर्णय को इलाहाबाद हाईकोर्ट में भी चुनौती दी जा चुकी है। मामले में अगली सुनवाई 28 सितंबर को होगी। याचिका में कहा गया है कि 9 सितंबर और 10 सितंबर 2020 को पारित डीआईजी स्थापना, पुलिस मुख्यालय व अपर पुलिस महानिदेशक पुलिस मुख्यालय के आदेशों से पदावनति देकर याचियों का तबादला कर दिया गया। प्रदेश के विभिन्न जिलों में तैनात 896 हेड कांस्टेबलों को पदावनत करके कांस्टेबल बना दिया गया है। साथ ही उन्हें पीएसी में स्थानांतरित कर दिया गया है।

डीएम और पुलिस कमिश्नर ने संभाली कोरोना गाइडलाइंस के पालन कराने की कमान

  • महामारी के बारे में जनता को जागरूक करने पर दिया जाएगा जोर

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। कोरोना गाइडलाइंस के पालन कराने की कमान डीएम अभिषेक प्रकाश और पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडेय ने संभाल ली है। डीएम और पुलिस कमिश्नर ने आज सौ टीमों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। ये टीमें न केवल लोगों को महामारी के खतरे को लेकर जागरूक करेंगी बल्कि कोरोना गाइडलाइंस का पालन भी कराएंगी। टीमें मास्क न पहनने पर चालान करेगी साथ ही मुफ्त में मास्क भी उपलब्ध कराएंगी।
कोरोना संक्रमण की रफ्तार को रोकने के लिए पुलिस और प्रशासन ने संयुक्त रूप से 100 टीमें बनायी हैं। ये टीमें जनता के बीच जागरूकता फैलाने के साथ सोशल डिस्टेंसिंग सहित अन्य गाइडलाइंस का पालन कराएंगी। डीएम अभिषेक प्रकाश ने कहा कि कोरोना की रोकथाम के लिए लगातार काम किया जा रहा है। यदि कोरोना को हराना है तो मास्क अवश्य लगाएं। दो गज की दूरी का पालन करें और अपनी इम्यूनिटी को बढ़ाएं। वहीं पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडे ने बताया कि कोरोना गाइडलाइंस का पालन नहीं करने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। साथ ही टीमें लोगों को जागरूक करेंगी।

अब कृष्ण जन्मभूमि का मामला पहुंचा अदालत

  • भूमि के स्वामित्व की मांग को लेकर दायर की याचिका

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
मथुरा। अब मथुरा में श्रीकृष्ण विराजमान ने भी अदालत का दरवाजा खटखटाया है। मथुरा की अदालत में एक सिविल मुकदमा दायर कर श्रीकृष्ण विराजमान ने जन्मभूमि मुक्त कराने की गुहार लगाई है। इस याचिका के जरिये 13.37 एकड़ की कृष्ण जन्मभूमि का स्वामित्व मांगा गया है। उनका कहना है कि जन्मभूमि की जमीन पर मुगलकाल में कब्जा कर शाही ईदगाह बना दी गई थी। याचिका में शाही ईदगाह मस्जिद को हटाने की मांग की गई है।
ये वाद भगवान श्रीकृष्ण विराजमान, कटरा केशव देव खेवट, मौजा मथुरा बाजार शहर की ओर से उनकी अंतरंग सखी के रूप में अधिवक्ता रंजना अग्निहोत्री और छह अन्य भक्तों ने दाखिल किया है। हालांकि, प्लेसेज ऑफ वर्शिप एक्ट 1991 इस मामले के आड़े आ रहा है इस एक्ट के जरिये विवादित राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मुकदमेबाजी को लेकर मालिकाना हक पर मुकदमे में छूट दी गई थी लेकिन, मथुरा-काशी समेत सभी धार्मिक या आस्था स्थलों के विवादों पर मुकदमेबाजी से रोक दिया गया था।

https://www.youtube.com/watch?v=BQUtHZQinzs

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *