मुख्यमंत्री ने सपा नेता विजय बहादुर यादव को किया बर्खास्त

  • जमीन कब्जाने के मामले में की गई बड़ी कार्रवाई
  • पति और पत्नी दोनों को दिखाया पार्टी से बाहर का रास्ता

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Captureलखनऊ। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने चिनहट में जमीन कब्जाने के मामले में आरोपी पूर्व जिलापंचायत अध्यक्ष विजय बहादुर यादव को पार्टी से बर्खास्त कर दिया है। इसके साथ ही उनकी पत्नी माया यादव को भी पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। सीएम के इस फैसले से स्पष्ट हो गया है कि पार्टी में रहकर अवैध काम करने वालों को बिल्कुल भी बख्शा नहीं जायेगा।
चिनहट के बाघामऊ गांव में किसान इंदल लोध की जमीन कब्जा करने व विरोध करने पर ग्रामीणों के साथ मारपीट करने के मामले को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने गंभीरता से लिया है। उन्होंने सूचना मिलने के कुछ ही घंटों बाद पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष विजय बहादुर यादव और उनकी पत्नी वर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष माया यादव को पार्टी से बर्खास्त कर दिया है। साथ ही आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।
बता दें कि पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष विजय बहादुर यादव गुरुवार को अपने 200 समर्थकों के साथ चिनहट के बाघामऊ गांव में किसान इंदल लोघ की जमीन कब्जाने पहुंचे थे। गांव वालों ने इसका विरोध किया तो पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष के गुर्गों ने ग्रामीणों के साथ मारपीट कर दी, जिसमें 11 लोग घायल हो गए। इस मामले में पीडि़त रिपोर्ट दर्ज कराने थाने पहुंचे तो पुलिस ने सत्ताधारी पार्टी के नेता का दबाव होने की वजह से रिपोर्ट दर्ज नहीं की। इसके बाद ग्रामीणों ने फैजाबाद रोड पर जाम लगा दिया। हंगामा बढ़ता देखा चिनहट एसओ सुरेश यादव ने रिपोर्ट दर्ज की लेकिन पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ कोई भी कार्रवाई करने से बचते नजर आये। जब शाम को इसकी जानकारी मुख्यमंत्री को हुई तो उन्होंने विजय बहादुर यादव को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया पुलिस ने मामले में दो नामजद कन्हैई व कल्लू को गिरफ्तार कर लिया है। एसओ चिनहट ने बताया कि मामले को गंभीरता से लेकर कार्रवाई की जा रही है।

Pin It