मिथ्याभास नाटक में दिखी समाज की असलियत

लखनऊ। जितना हमारे आस-पास सफाई का होना जरूरी है, उतनी ही सफाई हमारे अंतर्मन में भी होनी चाहिए। राजधानी के राय उमानाथ बली ऑडिटोरियम में बुधवार शाम नाटक मिथ्याभास में यही सन्देश देने की कोशिश की गई। मिथ्याभास के कलाकारों ने अपने अभिनय से खूब तालियां बटोरीं। सांस्कृतिक संस्था आकृति द्वारा आयोजित पांचवें यूथ ड्रामा फेस्टिवल के दूसरे दिन मिथ्याभास नाटक का मंचन हुआ। इस नाटक के जरिये समाज से पिछड़ी सोच, दलित प्रताडऩा और अन्धविश्वास जैसी समस्याओं को खत्म करने की सीख दी गई। इस नाटक में सफाई और शिक्षा पर जोर दिया गया था। नाटक को आनंद शर्मा द्वारा लिखा गया था। मुख्य आर्टिस्ट के रूप में नीशू सिंह, आदित्य शुक्ला रहे। इसके साथ ही अंकुर, विनय और रश्मि ने नाटक में साथ दिया।

Pin It