मिड-डे-मील में एक दिन छात्रों को दें मौसमी फल: मुख्य सचिव

4पीएम न्यूज़ नेटवर्कCapture
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव आलोक रंजन ने निर्देश दिये कि मिड-डे-मील योजना के अन्तर्गत छात्रों को सप्ताह में एक दिन ताजे एवं मौसमी फल उपलब्ध कराये जाएं। इसके अलावा भोजन परोसने के लिए स्टील की थाली एवं गिलास खरीदकर यथाशीघ्र स्कूलों में पहुंचाये जाएं ताकि बच्चों को थाली में भोजन एवं गिलास में दूध दिया जाये। उन्होंने कहा कि जिन विद्यालयों में गैस सिलेण्डर नहीं हैं, उन्हें गैस सिलेण्डर व चूल्हा उपलब्ध कराया जाए।
मुख्य सचिव आलोक रंजन शास्त्री भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष के सभागार में मध्यान्ह भोजन प्राधिकरण की प्रबन्धकारिणी समिति की 20वीं बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने मध्याह्नï भोजन योजना के अन्तर्गत वर्ष 2016-17 में प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालय के लगभग 1 करोड़ 8 लाख छात्रों को लाभान्वित कराने हेतु लगभग 1241 करोड़ रुपये के वार्षिक बजट के प्रस्ताव को भारत सरकार को भेजने के निर्देश दिये। वार्षिक बजट में लगभग 744 करोड़ रुपये केन्द्र तथा लगभग 496 करोड़ रुपये राज्य का सम्मिलित है। श्री रंजन ने मिड-डे-मील प्राधिकरण द्वारा मण्डल व जनपद में कार्यरत सिस्टम एनॉलिस्ट, समन्वयक, कम्प्यूटर ऑपरेटर के वेतन/मानदेय में 10 प्रतिशत की वृद्धि किये जाने के प्रस्ताव को अनुमोदन दिए। श्री रंजन ने कहा कि बच्चे देश के भविष्य हैं, उन्हें बेहतर शिक्षा के साथ-साथ गुणवत्तापरक पौष्टिक भोजन उपलब्ध कराया जाना आवश्यक है। मिड-डे-मील के वितरण एवं गुणवत्ता को बनाये रखने हेतु विद्यालयों का सोशल ऑडिट कराया जाये तथा आईवीआरएस के माध्यम से प्रतिदिन मॉनीटरिंग भी करायी जाये।

Pin It