मायावती को महिलाओं के खिलाफ बोलने का हक नहीं: स्वाति सिंह

  • बसपा नेताओं के खिलाफ कार्रवाई को लेकर गंभीर नहीं दिख रही पुलिस

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ । पूर्व बीजेपी नेता दयाशंकर सिंह की पत्नी स्वाति सिंह ने पुलिस विभाग पर बसपा नेताओं के खिलाफ कार्रवाई को लेकर गंभीर न होने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि मेरे पति के खिलाफ कार्रवाई करने को लेकर पुलिस जितना सक्रियता दिखा रही थी, उतनी सक्रियता बसपा नेताओं के खिलाफ कार्रवाई में नहीं दिखा रही है। जबकि बसपा नेताओं के खिलाफ गैर जमानती धाराओं में मुकदमा दर्ज है। इसके अलावा बसपा सुप्रीमो के खिलाफ बयान जारी किया कि मायावती को महिलाओं के खिलाफ बोलने का कोई हक नहीं, क्योंकि उनकी बेटी के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने वालों को बचा रही हैं। उनका समर्थन कर रही हैं।
स्वाति सिंह ने एक प्रेस वार्ता के दौरान कहा कि उन्होंने पुलिस को जो सीडी दी हैं, उनमें बसपा नेताओं की तरफ से की गई अभद्र भाषा के इस्तेमाल से जुड़े तमाम सबूत हैं। इसके बावजूद पुलिस दबाव में बसपा नेताओं के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रही है। इसके बावजूद वह जनता के समर्थन से अपने न्याय की लड़ाई जारी रखेंगी। उन्होंने कहा कि मुझे पता चला है कि पुलिस ने वीडियो रिकार्डिंग के आधार पर बसपा के तीन नेताओं पर पाक्सो एक्ट लगाया है। जबकि 22 लोग चिन्हित किए गए हैं। उन्होंने यह तथ्य बताने के लिए विवेचक सीओ हजरतगंज अशोक कुमार वर्मा से संपर्क भी किया लेकिन अब तक विवरण उपलब्ध नहीं हो पाया है। उन्होंने कहा कि संसद के बाहर मायावती ने बयान दिया था कि दयाशंकर के परिवार को सबक सिखाने के लिए वह काफी हैं। बसपा नेता प्रदर्शन के दौरान पर्चे पर लिखे नारे देखकर बोल रहे थे। इससे साफ जाहिर है कि सबकुछ पहले से तय था। मायावती के कहने पर ही ऐसा हुआ। लिहाजा 120बी के तहत मायावती के खिलाफ भी कार्रवाई होनी चाहिए। मायावती को सीडी देने के एक सवाल पर स्वाति ने कहा कि मायावती से बहुत खतरा लगता है। उनको सीडी देने की
जरूरत नहीं है।

Pin It