महिला थानाध्यक्ष पर बहादुर महिला सिपाही को आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप

महिला सिपाही को बहादुरी के लिए मुलायम और अपर्णा कर चुके हैं सम्मानित

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। प्रदेश के मुखिया रह चुके और सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह सहित अपर्णा यादव ने जिस बहादुर महिला सिपाही सुनीता तिवारी को सम्मानित किया उसे अब कोई और नहीं बल्कि महिला थानाध्यक्ष गीता द्विवेदी अपमानित करने और प्रताडि़त करने में लगी है। इतना ही नहीं महिला सिपाही को आत्महत्या करने के लिये दबाव बना रही है। कई माह से चल रहा प्रताडऩा का दौर जब नहीं थमा तो महिला सिपाही ने हजरतगंज सीओसे गुहार लगाई। लेकिन पांच दिन बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई। महिला थानाध्यक्ष की प्रताडऩा से महिला सिपाही का स्वास्थ्य खराब हो गया है। महिला सिपाही मेडिकल लीव पर है।
बता दें कि महानगर कोतवाली क्षेत्र में देर रात तो एक शोहदे को गिरफ्तार कराने और उसे धूल चटाने में कामयाब रही महिला सिपाही सुनीता तिवारी की बहादुरी जब सामने आई थी तो हर कोई अवाक रह गया था। देखते ही देखते सुनीता के इस बहाुदरी की गूंज सचिवालय, विधान सभा, मुख्यमंत्री आवास के साथ ही सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के पास भी पहुंची। दूसरे दिन इस बहादुर महिला सिपाही को सम्मानित करने के लिये मुलायम सिंह यादव ने अपने आवास पर बुलाया। मुलायम सिंह यादव ने सुनीता को आगे बढऩे का आशीर्वाद देते हुए उसे सम्मानित किया। इतना ही नहीं मुलायम सिंह यादव के आदेश पर सुनीता तिवारी को रिवॉल्वर दिया गया। इसके बाद मुलायम सिंह यादव की पुत्र वधु अपर्णा यादव ने भी अपने आवास पर पति प्रतीक यादव के साथ सुनीता को सम्मानित किया। लेकिन सुनीता को क्या पता कि महिला थानाध्यक्ष गीता द्विवेदी उसे इस तरह से प्रताडि़त करेंगी कि उसका स्वास्थ्य खराब हो जायेगा। सुनीता के मुताबिक आये दिन गीता द्विवेदी सुनीता का मानसिक और शारिरिक शोषण करती रहती है। इतना ही नहीं गीता द्विवेदी ने अपने कमरे में बुलाकर साफ-साफ कह दिया कि वह आत्महत्या क्यों नहीं कर रही है। सुनीता के मुताबिक सबके सामने आये दिन जहां जलील करती रहती है वहीं जानबूझकर ऐसी जगह ड्यूटी लगाती है जहां कोई खास मतलब नहीं रहता है। सुनीता ने इस मामले में हजरतगंज सीओ को शिकायती प्रार्थना-पत्र देकर न्याय की गुहार लगाई है। लेकिन पांच दिन बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई। इस संदर्भ में सीओ हजरतगंज से वार्ता करने की कोशिश की गई लेकिन नेटवर्क प्रॉब्लम के कारण फोन नहीं जा सका।

तानाशाह की भूमिका है थानाध्यक्ष की
महिला पुलिसकर्मियेां की मानें तो थानाध्यक्ष गीता द्विवेदी तानाशाह की भूमिका में नजर आती है। आये दिन वह कई महिला पुलिसकर्मियेां को अपमानित करती रहती है।

हमें कुछ नहीं कहना है : गीता द्विवेदी

इस संदर्भ में गीता द्विवेदी ने कहा कि वह कुछ नहीं कहना चाहती हैें। हालांकि वार्ता के दौरान उन्होंने संवाददाता से अभद्रता भी की।

Pin It