महिलायें अब सीख गई हैं अपना हक लेना: गीताश्री

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
captureलखनऊ। जागरण के संवादी कार्यक्रम में मशहूर लेखिका गीताश्री ने कहा कि रचना के माध्यम से महिलाओं को अपने हक की लड़ाई खुद ही लडऩी होगी, जो कि महिलाओं ने शुरु कर दी है। आज की महिलाएं बहुत खुल कर अपनी बात रख रही हैं। आज की पीढ़ी को सहने की आदत नहीं है, जो कुछ थोड़ी बहुत झिझक रह गई है, वह भी जल्द ही खत्म हो जायेगी। जहां तक लेखन की बात है, लेखन में समाज बंट गया है। लोगों में संशय की भावना आ गई है। इससे उनका लेखन प्रभावित हो रहा है। लेखकों की भाषा बदल गई है। वह समय के हिसाब से लिख रहे हैं। आज के युवा लेखकर अपनी जिम्मेदारियां बखूबी निभा रहे हैं। इसलिए सामाजिक मुद्दों से जुड़े संवादों और कार्यक्रमों साहित्य और कला की चर्चा में बहुत से पहलू सामने भी आये हैं।

 

Pin It