मरीज की मौत पर परिजनों ने जमकर काटा हंगामा

  • पुलिस के हस्तक्षेप के बाद मामला हुआ शांत

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बलरामपुर अस्पताल में महिला की मौत पर परिजनों ने जमकर हंगामा व तोडफ़ोड़ किया। परिजनों ने चिकित्सकों पर इलाज में लापरवाही का आरोप लगाया है। इसके साथ ही चिकित्सकों के साथ अभद्रता भी की है। घटना की सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने परिजनों को समझा बुझाकर मामला शान्त कराया। अस्पताल के सीएमएम ने बताया कि मरीज गंभीर अवस्था में अस्पताल लाई गई थी। उसको बचाने का पूरा प्रयास किया गया लेकिन मौत हो गई।
मौलवीगंज चिकमंडी निवासी नसीमा को हार्ट अटैक आने पर परिजनों ने मंगलवार की शाम को अस्पताल की इमरजेंसी में भर्ती कराया था। इमरजेन्सी में मौजूद चिकित्सकों ने मरीज को देखने के बाद द्वितीय तल पर शिफ्ट कर दिया था। जहां करीब आधे घंटे बाद इलाज के दौरान नसीमा की मौत हो गई। गुस्साए परिजनों ने इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुुए चिकित्सकों व नर्सों से बहस और धक्का-मुक्की शुरू कर दी। मामला बढ़ता देख गार्ड ने हस्तक्षेप किया तो परिजन उससे भी भिड़ गये और अस्पताल में जमकर हंगामा किया। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस व चिकित्साधिकरियों के हस्तक्षेप से मामला शान्त हुआ। मृतक नसीमा के परिजनों ने बताया कि मरीज को पहले तो भर्ती करने में आनाकानी की परन्तु किसी तरह मरीज को भर्ती कराया गया। आरोप है कि भर्ती करने के बाद कोई चिकित्सक मरीज को देखने नहीं आया, जिससे मरीज की मौत हो गयी। अस्पताल के सीएमएस डॉ. राजीव लोचन ने बताया कि मरीज को हार्ट अटैक आया था। चिकित्सक मरीज का इलाज कर ही रहे थे कि मरीज की मौत हो गई। उन्होंने बताया कि अस्पताल डेंगू के मरीजों से भरा हुआ है। बावजूद इसके चिकित्सक सभी मरीजों का इलाज कर रहे हैं। परिजनों को ऐसी स्थिति में धैर्य से काम लेना चाहिए। फिलहाल मामला शान्त हो गया है। वहीं थानाध्यक्ष वजीरगंज ने बताया कि इस मामले में अस्पताल प्रशासन की तरफ से भी प्राथमिकी दर्ज करवाई गई है।

Pin It