मरीजों का इलाज करने वाला अस्पताल खुद बीमार

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी के गोमतीनगर स्थित राजकीय आयुर्वेदिक चिकित्सालय को खुद के इलाज की दरकार है। आयुर्वेदिक चिकित्सालय की हालत देखकर अंदाजा लगाना आसान है कि मरीजों का इलाज करने वाला अस्पताल खुद बीमार पड़ा हुआ है। लक्ष्मणपुरी और विश्वास खण्ड के मध्य बने इस अस्पताल में ओपीडी पर अक्सर ताला पड़ा रहता है। जबकि ओपीडी खुलने का समय सुबह 8 बजे से 2 बजे तक है, इसके बावजूद शायद ही कभी ओपीडी समय से खुलती हो।
सूत्रों की मानें तो सुबह 8 बजे एक व्यक्ति द्वारा अस्पताल का मुख्य गेट खोल दिया जाता है लेकिन ओपीडी खुलने का कोई निश्चित समय नहीं है। जब चिकित्सक आते हैं तभी ओपीडी खुलती है नहीं तो बंद ही रहती है। सुबह 9 बजे 4पीएम की टीम अस्पताल परिसर में पहुंची तो ओपीडी बंद थी। अस्पताल का मेन गेट खुला हुआ था बाकी सबमें ताला लगा हुआ था। अस्पताल में न कोई कर्मचारी मौजूद था और न ही डॉक्टर। ऐसे में लोगों को उचित इलाज मुहैया कराने का स्वास्थ्य विभाग का दावा हवा-हवाई साबित हो रहा है।

खंडहर बन रहा है अस्पताल

आयुर्वेद अस्पताल धीरे-धीरे खंडहर का रूप लेता जा रहा है। इसकी हालत देखकर लगता है मरीज तो दूर चिकित्सक भी यहां नहीं आते हैं। अस्पताल परिसर में जगह-जगह मदार के जंगल उग आये हैं। स्थानीय निवासी बताते हैं कि बीमार अस्पताल मरीजों का इलाज क्या करेगा।

Pin It