मनोज के बयान ‘देशद्रोही हैं आमिर

खान’ के बाद राजनीतिक पारा चढ़ा

एक बार फिर गरमाया आमिर खान का मुद्दा
कल पर्यटन और संस्कृत मंत्रालय समिति की बैठक में मनोज तिवारी ने कहा था- आमिर है देशद्रोही
बैठक में सांसदों के विरोध पर मनोज तिवारी ने साधी चुप्पी

W14पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। ‘अतुल्य भारत’ के ब्रांड एंबेसडर के तौर पर आमिर को हटाने की चर्चा अभी थमी नहीं थी कि पर्यटन मंत्रालय की स्टैडिंग कमेटी की बैठक में मनोज तिवारी के बयान ‘देशद्रोही है आमिर खान’ के बाद राजनीतिक पारा चढऩे लगा है। हालांकि, सांसद मनोज तिवारी ने इन आरोपों का खंडन किया है। उन्होंने कहा है कि इस तरह का कोई बयान उन्होंने नहीं दिया है। जबकि स्टैडिंग कमेटी की बैठक में जब मनोज तिवारी का कथित बयान आया तो सीपीएम सांसद आर. बनर्जी और कांग्रेस सांसद केसी वेनूगोपाल ने इस पर त्वरित प्रतिक्रिया दी। दोनों ने कहा कि यह असंसदीय भाषा है और किसी के खिलाफ इस तरह की भाषा यहां प्रयोग नहीं की जानी चाहिए।
मालूम हो कि पर्यटन मंत्रालय ने 6 जनवरी को इसकी पुष्टि कर दी थी कि अब आमिर खान अतुल्य भारत कैंपेन के ब्रांड एंबेसेडर नहीं होंगे। हालांकि मंत्रालय ने आमिर से करार खत्म करने का कोई कारण नहीं बताया। टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार तृणमूल कांग्रेस के सांसद केडी सिंह के नेतृत्व में बैठक चल रही थी। इसी दौरान मंत्रालय से ‘अतुल्य भारत’ के ब्रांड एंबेसडर पद को लेकर चल रहे विवाद पर सफाई मांगी गई। कांग्रेस सांसद कुमारी शैलजा ने यह मुद्दा उठाया और आगे की योजना पूछी, तभी सीपीएम सांसद रिताब्रता बनर्जी ने सवाल उठाया कि क्या नया ब्रांड एंबेसडर मुफ्त में काम करेगा, क्योंकि आमिर इस काम के लिए पैसा नहीं लेते थे। सरकार नए ब्रांड एंबेसडर को कितने पैसे देने की मन बना रही है? तभी मनोज तिवारी को गुस्सा आ गया। उत्तेजित होकर बोले- अच्छा हुआ आमिर को हटा दिया गया। वह देशद्रोही हैं, तिवारी की यह बात सुनकर सीपीएम सांसद बनर्जी, कांग्रेस के केसी वेणुगोपाल सहित वहां मौजूद दूसरे नेताओं ने फौरन इसका विरोध किया। कहने लगे यह ठीक नहीं है। इस तरह की भाषा नेताओं की तरफ से किसी भी व्यक्ति के खिलाफ इस्तेमाल नहीं की जानी चाहिए। यह असंसदीय व्यवहार है। अपने सहयोगियों की यह तीखी प्रतिक्रिया देख तिवारी शांत हो गए।

मनोज तिवारी ने साधी चुप्पी

मीडिया ने जब इस मुद्दे पर तिवारी से बात करने की कोशिश की तो उन्होंने कुछ भी बताने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि समिति की बैठक में जो कुछ भी हुआ उस पर मैं कुछ नहीं कह सकता। क्योंकि वह सब कॉन्फिडेंशियल है। हालांकि, तिवारी ने कहा कि मैंने आमिर खान के बारे में ऐसा कुछ भी नहीं कहा। बाद में तिवारी ने कहा कि किसी भी अतुल्य भारत का चेहरा बने व्यक्ति को ऐसा नहीं कहना चाहिए कि भारत रहने लायक जगह नहीं है। एक न्यूज चैनल पर मनोज तिवारी ने कहा कि अतुल्य भारत के विज्ञापन से आमिर को हटाने का फैसला सही है। इस बीच इस मसले पर सियासत शुरू हो गई है।

आमिर ने कहा था- असहिष्णुता बढ़ी

आमिर ने नवंबर 2015 में कहा था कि असहिष्णुता की घटनाओं ने उन्हें चिंतित किया है। उन्होंने कहा था कि उनकी पत्नी किरण राव ने तो एक बार यहां तक सुझाव दे दिया था कि उन्हें देश छोड़ देना चाहिए । आमिर के इस बयान के बाद पूरे देश में इसकी घोर निंदा हुई थी। मनोज तिवारी ने तब भी आमिर के खिलाफ मोर्चा खोला था। आमिर खान के असहिष्णुता के बयान के बाद से ही ‘अतुल्य भारत’ के ब्रांड एंबेसेडर से हटा दिया गया है।

Pin It